खुद का नेतृत्व करने के लिए आध्यात्मिकता से करें अन्तर्मन का विकास

का नेतृत्व करने के लिए आध्यात्मिकता से करें अन्तर्मन का विकास - brahma kumaris | official
0 Comments

अभाकां सेवादल के लालजी देसाई तथा हेमसिंह ने की मुलाकात

शिव आमंत्रण, आबू रोड। नेता वही होता है जो लोगों का नेतृत्व करने से पहले खुद का नेतृत्व करना सीखे। क्योंकि जो खुद का सही दिशा में नेतृत्व नहीं कर सकता वह दूसरों का नेतृत्व करने में सक्षम नहीं हो सकता है। उक्त उद्गार ब्रह्माकुमारीज संस्थान की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी बीके लक्ष्मी (बीके मुन्नी) ने व्यक्त किये जब उनके आवास पर उनसे मुलाकात करने गये राष्ट्रीय अध्यक्ष लालजी देसाई तथा हेमसिंह शेखावत गये थे।
उन्होंने कहा, कि आज राजनीति का वैसे तो रूप बदलता जा रहा है। लेकिन वास्तव में राजनीति का अर्थ लोगों की सेवा करना और खुद पर शासन करते हुए श्रेष्ठ व्यक्तित्व और समाज का निर्माण करना होना चाहिए। ब्रह्माकुमारीज संस्थान लोगों के जीवन में खुद के उपर नेतृत्व करने की कला सीखाता है। इसलिए प्रतिदिन अपने जीवन में राजयोग और ध्यान को महत्वपूर्ण स्थान देना चाहिए। यही समाज सेवा का अर्थ है। इस अवसर पर ब्रह्माकुमारीज संस्थान के कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय ने लोगों की सेवा करने का संकल्प दिलाया।

मुलाकात के दौरान आल इंडिया कांग्रेस सेवादल के अध्यक्ष लालजी देसाई ने कहा, कि गांव गांव में संगठन का विस्तार कर लोगों की सेवा करना ही हमारा लक्ष्य है। लोगों में मूल्यों के प्रति रूझान बढ़े और जीवन श्रेष्ठ बने यही हमारी कामना हो। इसके साथ प्रदेश अध्यक्ष हेम सिंह शेखावत ने भी अपनी शुभकामनाएं दी तथा आशिर्वाद लिया। इसके पश्चात मोमेंटों तथा सूत भेंटकर राजयोगिनी बीके मुन्नी दीदी एवम् बीके मृत्युंजय भाई का सम्मान किया।
गौरतलब है आल इंडिया कांग्रेस सेवादल का दो दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन बह्माकुमारीज संस्थान के मनमोहिनीवन स्थित ग्लोबल आडिटोरियम में आयोजन किया गया था, जिसमें सम्पूर्ण भारत से कांग्रेस सेवादल के पदाधिकारी उपस्थित थे।

Choose your Reaction!
Leave a Comment

Your email address will not be published.