Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

मेरे भाग्य के लिए कौन जिम्मेदार है?

मेरे भाग्य के लिए कौन जिम्मेदार है?

हममें से बहुत से लोग यह मानते हैं कि, परमात्मा हमारा भाग्य लिखते हैं। लेकिन हमें कुछ पल रुककर, इस विश्वास पर आत्ममंथन करने की जरूरत है। अगर परमात्मा हमारा भाग्य लिखते, तो दो बातें निश्चित होतीं: पहली, चूँकि हम सभी उनकी संतान हैं, इसलिए हम सबका भाग्य समान होता। दूसरा, हमारे माता-पिता के रूप में, परमात्मा ने हम सभी के लिए एक आदर्श भाग्य ही लिखा होता। परंतु आज न तो हमारा भाग्य समान है, न ही संपूर्ण। हम सभी ला ऑफ कर्मा पर भी विश्वास करते हैं, जिसके अनुसार – जैसा मेरा कर्म होगा, वैसा ही मेरा भाग्य होगा। हमारे कर्म सदैव उत्तम नहीं होते और हम सभी एक जैसे कर्म भी नहीं करते। इसलिए हमारा भाग्य न तो पूर्ण है और न ही समान। हमें स्वयं से यह पूछने की ज़रूरत है कि, इन दोनों में से कौन सी मान्यताएँ हमारे लिए सही हैं? कर्म का अर्थ है हमारे द्वारा किए जाने वाले कार्य। और ला ऑफ कर्मा क्रिया और प्रतिक्रिया, या इसके कारण और प्रभाव के बारे में बताता है। यह हमारे जीवन में लगातार काम करता रहता है क्योंकि हमारे हर कर्म में; हमारा हर विचार, हर बोल और हर कार्य शामिल है। ला ऑफ कर्मा के अनुसार, प्रत्येक कार्य – चाहे वह कितना भी छोटा या महत्वपूर्ण क्यों न हो – उसका एक परिणाम होता है। परिणाम हमेशा फेअर या निष्पक्ष होता है| सही कार्य अच्छे परिणाम लाता है, और गलत कार्य गलत या कठिन परिणाम लाता है। कुछ कर्मों का परिणाम तुरंत मिल जाता है या फिर कभी-कभी एक घंटे बाद, एक साल बाद, 20 साल बाद, 50 साल बाद या अगले जन्म में भी मिल सकता है।

कुछ मामलों में, हम हमारे द्वारा किए गये कर्म को परिणाम से जोड़ सकते हैं। हालाँकि, जब हम सूक्ष्म स्तर पर कर्म के प्रभाव को देखते हैं, तो हम उसे परिणाम से जोड़ नहीं पाते हैं, क्योंकि वो कर्म कई साल पहले या फिर पिछले जन्म में भी किया जा सकता है। इसलिए, हमें कारण की पहचान करने के लिए उसके बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। अगर हम संदेश में बताई गई बातें याद रखें, तो भी बहुत है –

  1. ला ऑफ कर्मा हमेशा यथार्थ और सटीक होता है, और सभी के लिए हमेशा निष्पक्ष होता है।
  2. हमारी वर्तमान परिस्थितियाँ हमारे पिछले कर्मों का ही परिणाम हैं। इसलिए, हमारे साथ जो कुछ भी घटित होता है उसके लिए सिर्फ हम जिम्मेदार हैं।
  3. हमारा वर्तमान कर्म ही हमारा भविष्य तय करता है। इसलिए, हमारे पास अपना भाग्य बनाने की शक्ति है

हम सभी ने सही और गलत दोनों प्रकार के कर्मों के परिणामों का अनुभव किया है। चाहे हम इस पर विश्वास करें या न करें, ला ऑफ कर्मा हमारे जीवन में लगातार काम कर रहा है। हमें उससे डरने की जरूरत नहीं है बल्कि, इसके प्रति जागरूक रहने की जरूरत है। हमें यह भी याद रखना होगा कि, कर्म में केवल बोलचाल और कार्य ही नहीं बल्कि, विचार भी शामिल होते हैं। तो आइए हम सभी सही सोच, बोल और व्यवहार पर अपना ध्यान केंद्रित करें, ताकि हम अपने लिए एक सुंदर भाग्य का निर्माण कर सकें।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए