Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

EN

आपके अपनों के दर्द में आपकी भूमिका

आपके अपनों के दर्द में आपकी भूमिका

हम सभी अपने प्रियजनों को उनके जीवन में आने वाली निराशाओं, कठिनाइयों और चुनौतियों से बचाने की हर संभव कोशिश करते हैं। परंतु हममें में से बहुत से लोग उनके दर्द को अपना दर्द मान लेते हैं और उनका दुख सहन नहीं कर पाते हैं। हम अपने जीवन में अनेकों भूमिकाएं निभाते हुए, अपने परिवार और दोस्तों की केअर करना, उनकी देखभाल करना अच्छा मानते हैं, लेकिन जिस समय हम उनके दुख/ दर्द में नकारात्मक भावनाएं पैदा करते हैं, तो न केवल हम उनके दर्द को और बढाते हैं, बल्कि उन्हें सुकून देने के बजाय और ही दर्द व पीडा दे देते हैं। जब भी परिवार का कोई सदस्य या फिर हमारे दोस्त दर्द में होते हैं, या वे कोई गलती करते हैं, तो हम गुस्सा करते हैं या दुखी होते हैं। लेकिन, वे चाहते हैं कि, हम उन क्षणों में स्टेबल रहें, लेकिन हम रिएक्ट करते हैं और यह भूल जाते हैं कि, वे पहले से ही दर्द में हैं, और हमारे रिएक्शन उन्हें और अधिक नुकसान पहुँचा रहे हैं।

किसी दुखी/ पीड़ित व्यक्ति को शक्तिशाली अनुभव कराने के लिए; नीचे शेअर किए गये स्टेप्स को फालो करें –

  1. जब भी कोई आपके साथ अपना दर्द बांटे, तो कुछ समय के लिए रुकें, उस सीन के हलचल वाले वाईब्रेशन से स्वयं को अलग रखते हुए शांति से उन्हें सुनें, हमारी स्टेबिलीटी ही उन्हें शक्ति देती है|
  2. जब कोई गलती करता है, तब भी उसे स्वाभाविक रूप से सही और गलत की पहचान होती है। बस उसके पास उस समय-उस बात को सही तरीके से एप्लाई करना नहीं आता होगा। हमारी भूमिका उन्हें सलाह देने के साथ-साथ सशक्त बनाने की भी है। प्यार भरे शब्दों से प्रोत्साहित करें। उन्हें उनकी रिअल ताकत से अवगत कराएँ, उनके गुणों को दूसरों के सामने उजागर करें और आशीर्वाद के वाईब्रेशन दें।
  3. जब आप उस बात को भावनात्मक रूप से अलग होकर देखते हैं, तो आप चीजों को अलग नजरिये से देखकर सही एडवाईस दे पाते हैं। आपका माइंड स्पष्ट रूप से सोचता है और आपकी करुणा की भावना; आपको सही तरीके से रेस्पोंड करने में मदद करती है।
  4. अपने प्रियजनों को पोजीटिव एनर्जी वाले वाईब्रेशन और शब्दों से दुआएं देते हुए उन्हें सशक्त बनाएं|

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अपने पास्ट से सीखें

अपने पास्ट से सीखें

क्या आपने अपनी पास्ट लाइफ में की गई गलतियों से कुछ सीखने की उम्मीद से कभी झांकने की कोशिश करते हुए आखिर में, स्वयं को

Read More »
एक्सपेक्टेशन न करें

एक्सपेक्टेशन न करें

आप सभी ने अपने जीवन में, कभी न कभी ये अनुभव किया होगा कि, आप अपने साथ काम करने वाले कलीग को उसके प्रोजेक्ट पूरा

Read More »