Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

6th march 2023 ss hindi

एक टू-डू लिस्ट बनाएं और हर रोज चेक करें

प्रत्येक दिन के अंत में, हम अपनी टू-डू लिस्ट में आइटमों पर निशान लगाते हैं। आइए हम अपनी टू-बी (to be) लिस्ट भी देखें। हर दिन स्वयं का मूल्यांकन करना एक अच्छी प्रेक्टिस है जो हमें जीवन के हर क्षेत्र में सफलता दिलाती है। जीवन में किसी न किसी समय, हम अपने आंतरिक व्यक्तित्व  (inner self ) के बारे में अन्य लोगों से फीडबॅक पाते हैं कि हम कौन हैं, हम क्या हो सकते हैं और हम अपने को कैसे सुधार कर सकते हैं? एक नयी पहल यह है कि दूसरों की नजरों से खुद को जानने के बजाय, हम रोज अपना स्वयं का मूल्यांकन कर सकते हैं और अपने आंतरिक व्यक्तित्व में सुधार ला सकते हैं।

  1. हर दिन जीवन में कई तरह के रोल निभाने में, क्या आप हमेशा इस बात पर ध्यान देते हैं कि आप क्या कर रहे हैं नाकि आप क्या बन रहे हैं? चाहे आप जीवन के किसी भी दौर में हों, अपने आप को स्पष्ट रूप से देखना और अपने व्यक्तित्व का मूल्यांकन करना महत्वपूर्ण है जिसमें विशेष है – आपकी आदतें, आपका व्यवहार, आपकी वेल्यूस, आपकी क्षमताएं और भी विभिन्न क्षेत्र जिन्हें आपको सुधारने की आवश्यकता है।
  1. आपके बारे में अन्य लोगों की राय या फीडबेक आमतौर पर उनके दृष्टिकोण, मूड या व्यक्तित्व से प्रभावित होती है। इसलिए, स्व-मूल्यांकन यह समझने का सबसे विश्वसनीय तरीका है कि आप वास्तव में कौन हैं और आप स्वयं को कैसे बदल सकते हैं?
  1. किन्हीं 2 से 3 व्यक्तित्व की विशेषताओं के साथ, एक टू-बी लिस्ट बनाएं। उदाहरण के लिए: क्या मैंने सभी की विशेषताओं को देखा और उनकी कमजोरियों को अनदेखा किया? क्या मैं सभी प्रकार के क्रोध और अहंकार से मुक्त रहा? क्या मैं भय और चिंता से मुक्त रहा? क्या मैं अपने आप से, दूसरों से और अपने जीवन के हर दृश्य से संतुष्ट रहा? क्या मैंने बिना किसी ईर्ष्या और तुलना, के सबको अपने से आगे रखा? या फिर कोई अन्य व्यक्तित्व लक्षण जो आपको लगता है कि आप में कमी है या आप सुधार करना चाहते हैं। इसे हर रात चेक करें और भरें। अब 10 में से अपने आप को नंबर या पेर्सेन्टेज या फिर हां या नहीं के साथ खुद का मूल्यांकन करें। समय-समय पर अपनी लिस्ट सूची में व्यक्तित्व विशेषताओं को बदलते रहें या उन्हें कुछ समय के लिए समान रखें और फिर अपनी व्यक्तिगत पसंद और अपनी आंतरिक आवश्यकता के आधार पर बदलें।
  1. हर रात सोने से पहले स्वयं के मूल्यांकन में केवल कुछ मिनट लगते हैं। प्रतिदिन अपनी प्रगति को नोट करने के लिए एक छोटी सी डायरी बनाएं। आपके व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं को बदलने और सुधारने में इसके अत्यधिक लाभ हैं। यह आपको धीरे-धीरे अपने स्व-परिवर्तन के लक्ष्य की ओर बढ़ने में मदद करता है।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

आपका मन भी एक बच्चा है

आपका मन भी एक बच्चा है

मन हमारे बच्चे जैसा है। इसलिए जब हम अपनी जिम्मेदारियां निभाते हैं, तो भी हमारी प्रायोरिटी इस बच्चे की भलाई होनी चाहिए। हमें इसका सही

Read More »