Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

अपने शरीर का सम्मान करने की कला

October 3, 2023

अपने शरीर का सम्मान करने की कला

हमारा शरीर; जो हम सभी के लिए हमारी शारीरिक पोशाक है, अक्सर हमारे स्वयं या दूसरों के द्वारा परखा जाता है, कभी कभी आलोचना या अस्वीकृति का लक्ष्य बन जाता है। लेकिन जिस तरह से यह जीवन भर हमारी सेवा करता है, उसके लिए सिर्फ और सिर्फ सराहना और ग्रेटिट्यूड ही होना चाहिए। इसलिए हमारा फोकस खुश और स्वस्थ महसूस करने पर होना चाहिए, नाकि पतला, लंबा या गोरा दिखने पर। तो आइए इस संदेश द्वारा; अपने शरीर के बारे में अपने विचारों और शब्दों को जानें, खासकर जब किसी और की प्रशंसा करते हुए। अपने शरीर के प्रति अपनी अवेयरनेस को बदलें और सराहना की एनर्जी रेडीएट करें। और ऐसा तब हो सकता है, जब हम दूसरों के शरीरों को अनालाइज करना बंद कर देते हैं तो अपने शरीर के लिए प्यार और सम्मान पैदा करना आसान हो जाता है। तो हमें लोगों की शक्ल-सूरत, पहनावे, खान-पान या जीवनशैली पर अत्यधिक ध्यान नहीं देना चाहिए बल्कि अपने लिए यह सुनिश्चित करें कि, हमारा शरीर साफ और स्वस्थ रहे, आरामदायक कपड़े पहने जाएं, उसे उचित पोषण दिया जाए, उसे फिट रखने के लिए पर्याप्त व्यायाम किया जाए और साथ ही उसे पर्याप्त आराम भी दिया जाए। इसके अलावा हमारे शरीर में और उसके आसपास कौन सी चीजें ज्यादातर यूज़ होती हैं जैसे कि- सूरज की रोशनी, कंप्यूटर/ फोन की रोशनी, चश्मा/ लेंस, ईयरफोन, साबुन, सौंदर्य प्रसाधन, गहने इत्यादि। लेकिन इनमें यदि कोई भी नकारात्मक पदार्थ शामिल हैं, तो इन्हें चेक करें और केवल वही यूज़ करें जो इसके लिए स्वास्थ्यवर्धक हो।

हम में से बहुत से लोग इस बात पर एग्री करेंगे कि, हमारी ख़ुशी इस बात पर निर्भर करती है कि, हमारा शरीर कैसा दिखता है। अगर हम जैसे दिखते हैं, उससे खुश नहीं हैं तो उसी तरह के सेंटेंस अपने लिए यूज़ करते हैं कि, मैं अपने लुक्स से खुश नहीं हूं तो ऐसे शब्द; हमारे मन और शरीर को शक्तिशाली नकारात्मक वाईब्रेशन भेजते हैं। सच तो यह है कि, आप कैसे दिखते हैं इससे भले ही खुश न हों, लेकिन आपके अंदर की खुशी आपको निश्चित रूप से अच्छा दिखाती है। आपके आस-पास के लोगों की आपके शरीर के बारे में अलग अलग राय हो सकती हैं, लेकिन हमेशा ध्यान रखें कि, आप अपने शरीर की आलोचना न करें या नाही उसे अस्वीकारें। जैसे कि; मैं बहुत मोटा हूं… मैं काला हूं… मैं कमजोर हूं… आपके द्वारा कहा गया हर शब्द कहता है कि, आप अपने शरीर को अस्वीकार कर रहे हैं। अपने शरीर को प्यार और प्रशंसा की एनर्जी के साथ केयर करें, इसका ख्याल रखें और इसे फिट रखें। हर दिन अपने शरीर की सराहना और उसका धन्यवाद करने के लिए कुछ पल का समय जरूर निकालें।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

व्यक्तित्व स्तर पर, अच्छाईयां हमारा ओरिजिनल नेचर है जबकि बनावटी या नकारात्मक व्यक्तित्व विशेषताएँ हम एक्वायर करते हैं। एक व्यक्ति जो जीवन भर अच्छे कर्म

Read More »