Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

बदला लेने की इच्छा से मुक्त होना

November 4, 2023

बदला लेने की इच्छा से मुक्त होना

हमें स्वयं से बहुत ईमानदारी से यह पूछने की जरूरत है कि, जब किसी ऐसे व्यक्ति के साथ कुछ भी गलत होता हो, जिसने आपको पास्ट में कभी कोई नुकसान वा दर्द पहुंचाया हो या किसी भी तरह से आपका अपमान किया हो, तो क्या आपको खुशी की झलक आई? यहां तक कि, सूक्ष्म लेवल पर थोड़े से आनंद की अनुभूति भी एक नकारात्मक रूप है, जो आपके अंदर दिखाई देता है, भले ही यह बहुत ही सूक्ष्म थॉट लेवल पर हो (और आपके बोल वा कर्मों में न भी दिखे), तो आपको यह याद रखना होगा कि, यह सूक्ष्म लेवल पर बदले की भावना है, भले ही आपने उस व्यक्ति से उस समय बदला नहीं लिया हो, जिसने आपको कभी नुकसान पहुंचाया था। यह सुनने में बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता है, लेकिन इस प्रकार से हम दूसरों के दर्द में आनंद का अनुभव करते हैं और यह बहुत ही निचले स्तर का आनंद है। और कभी-कभी हम, अपने इस आनंदमय बदले को उचित ठहराने के लिए न्याय का नाम दे देते हैं।

 

इस प्रकार के बदले की भावना के पीछे “घृणा या क्रोध” की एनर्जी काम करती है। यह एक ऐसी अनुभूति है:  मुझे वास्तव में बहुत आनंद आया क्योंकि उनके साथ वही हुआ जो उन्होंने मेरे साथ किया था, उन्हें कष्ट सहते हुए देखकर मुझे बहुत खुशी हुई, यही उनकी सजा है। इस प्रकार का आनंद, उस दूसरे व्यक्ति के साथ हमारे नकारात्मक कर्मों के हिसाब-किताब को बढ़ाता है, जिसके परिणामस्वरूप हमारा दुःख कम होने के बजाय बढ़ता है, हालाँकि यह हमें कुछ समय के लिए इसके कम होने का एहसास कराता है, परंतु इस प्रकार की खुशी से दूसरे व्यक्ति को केवल नकारात्मक ऊर्जा ही रेडीएट होकर उन्हें दर्द देगी जिससे वे भी हमारे लिए नफरत की नकारात्मक ऊर्जा ही रेडीएट करेंगे जो कभी भी हमें हमेशा के लिए खुश नहीं होने देगा। इसे एक उदाहरण के द्वारा समझते हैं; माना कि, कोई व्यक्ति सड़क पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया है और बहुत दर्द में है और हम उसकी तुरंत मदद करने के बजाय हम मुस्कुराते हैं, तो बदले में उस व्यक्ति से हमें कैसी एनर्जी मिलेगी? यह उदाहरण फिजिकल लेवल का है, लेकिन यही सिद्धांत सूक्ष्म स्तर पर भी लागू होता है। तो, अगली बार जब हमारे जीवन में ऐसा कुछ घटित हो, तो अगर अपनी चेकिंग के दौरान हम जान पाएं कि, हमारे अंदर खुशी और आनंद का नमोनिशान नहीं है तब हम कह सकेंगे कि, हम सूक्ष्म लेवल पर भी बदला लेने की हर इच्छा से मुक्त हैं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

आपका मन भी एक बच्चा है

आपका मन भी एक बच्चा है

मन हमारे बच्चे जैसा है। इसलिए जब हम अपनी जिम्मेदारियां निभाते हैं, तो भी हमारी प्रायोरिटी इस बच्चे की भलाई होनी चाहिए। हमें इसका सही

Read More »