Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

दशहरे पर्व का दिव्य अर्थ (भाग 2)

October 24, 2023

दशहरे पर्व का दिव्य अर्थ (भाग 2)

राम और रावण का रियल मीनिंग

हमारे धार्मिक पुराण: भागवत गीता में कहा गया है कि, काम, क्रोध और लोभ नरक के द्वार हैं। इस प्रकार से देह-अभिमान या रावण के वश में आकर आत्मारूपी सीता ने स्वयं को राम से अलग कर लिया है, जिसके परिणामस्वरूप उसने अपने लिए नरक के द्वार खोल दिए और “दुःख और पीड़ा” का अनुभव किया। रावण का शाब्दिक अर्थ है; रुलाने वाला। आज हर आत्मा या सीता पांच विकारों की जंजीरों में फंसी हुई है, जो सभी भावनात्मक पीड़ाओं, तनावों और दुखों की जड़ हैं और मुक्ति के लिए राम को पुकारती है।

राम; सभी आत्माओं के गैर भौतिक (नॉन फिजिकल) परमपिता का सिंबॉलिक नाम है, जो शाश्वत रूप से अशरीरी हैं, आत्माओ की दुनिया; शांतिधाम में रहते हैं, वे जन्म पुनर्जन्म के चक्र से परे हैं और सदा ही शांतिपूर्ण, शुद्ध, आनंदमय और प्रेमपूर्ण हैं। वास्तव में, ये पूरी तुलनात्मक कहानी; कलियुग के अंत में सभी आत्मा रूपी सीताओं को दुःख से मुक्त करने के लिए भौतिक जगत में परमात्मा के अवतरण से संबंधित है। अपने पवित्र वचनानुसार, सर्वोच्च सत्ता मनुष्य इतिहास के ऐसे महत्वपूर्ण समय पर आती है जब आत्माएं “अशुद्ध सुखों और इच्छाओं” की गुलाम बन गई हैं और उनकी रियल आत्मिक चेतना पूरी तरह से शारीरिक चेतना से प्रभावित हो चुकी है। यह समय ही संसार का वर्तमान समय है। वह आध्यात्मिक रूप से कमजोर आत्माओं की बुद्धि को अपने शुद्ध आध्यात्मिक ज्ञान से शुद्ध करता है, उन्हें गुणों और शक्तियों से सजाता है। वह उन्हें सरल राजयोग सिखाते हैं जिसे राज + योग में विभाजित किया जा सकता है; जिसका अर्थ है सभी समुदाय का राजा) जिसके द्वारा आत्माएं; अपने मन और बुद्धि द्वारा उस परम सत्ता परमात्मा से स्वयं को जोड़कर आध्यात्मिक रूप से सशक्त बनती हैं।

दशहरा शब्द; दश-हारा शब्द से बना है, जिसका अर्थ है दस और हारा हुआ। इस प्रकार से; जब हम अपने आध्यात्मिक स्व में स्थित होकर, दस सिर वाले राक्षस को आध्यात्मिक ज्ञान के तीर से मारते हैं और उसके विशाल पुतले को परमात्मा के साथ गहन योग की दिव्य अग्नि से जलाते हैं, तभी हम वास्तव में दशहरा मना सकते हैं और स्थायी आनंद को अनुभव कर सकते हैं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए