Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

हर कदम पर दृढ़ निश्चयी और सकारात्मक रहें (भाग 3)

January 14, 2024

हर कदम पर दृढ़ निश्चयी और सकारात्मक रहें (भाग 3)

हम सभी ने यह अनुभव किया है कि कभी न कभी और कहीं न कहीं हमारे डिटरमिनेशन की परीक्षा होती रहती है। जब भी हम स्वयं से डिटरमाइंड रहने का वादा करते हैं ठीक उसी समय कोई न कोई सिचुएशन हमें इमोशनली कमज़ोर और अनस्टेबल कर देती है और हमारा स्वयं से किया यह वादा टूट जाता है। ऐसे में हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि, ये दोबारा न हो और हम बिना रुके, सही रास्ते पर चलते हुए, कम से कम सीमा में अपने लक्ष्य को हासिल कर सकें। डिटरमाइन्ड होना माना – हमारे मन में एक भी कमज़ोर या शक्तिहीन विचार न आए: बल्कि हमें ऐसे थॉट्स क्रिएट करने होंगे जो पॉजिटिव होने के साथ साथ हमें सफल भी बनाएं। ऐसा करके हम न सिर्फ अधिक सफल होंगे बल्कि ये विचार कि; सफलता मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है और ये मेरे बहुत करीब है, एक सेकंड के लिए भी मुझसे दूर नहीं, ये एक तरह से हमारे लिए फ्यूल का काम करेगा जिससे हम अपने सभी कार्य शक्ति से भरपूर होकर कर पाएंगे और हर कदम पर सफलता हमारे कदम चूमेगी। इसलिए हमें ये ध्यान रखना होगा कि, बिना डिटरमिनेशन के लगातार सफल होना मुश्किल है। कभी कभी ऐसा भी हो सकता है कि, हमारे थॉट्स नेगेटिव होने के बाद भी हम सफल हो जाएं और ऐसा तब हो सकता है जब हमारे मन की स्थिति कमज़ोर होने के बावजूद जो हम चाहते हैं, वो पूरा हो जाए। लेकिन अगर हम इसके आदी होकर हर बार ऐसा ही होने की उम्मीद करने लगेंगे तो जरूरी नहीं कि हर बार ऐसा ही हो। इसलिए हमें खुद को इतना सशक्त करना होगा है कि हम अपने शक्तिशाली थॉट्स से आने वाली सिचुएशंस को कमज़ोर बना दें और साथ ही अपने डिटरमिनेशन को कम न होने दें। ऐसा करके हम न सिर्फ अगली बार डिफिकल्ट सिचुएशंस के लिए मानसिक रूप से तैयार होंगे, साथ ही साथ उन्हें  नेगेटिव से पॉजिटिव में भी बदल सकेंगे।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

जिंदगी की दौड़ में ना भागें…. प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

जिंदगी की दौड़ में ना भागें….प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

हर मनुष्य खुशियां चाहता है। हम अपने लिए खुशियों को ढूंढते रहते हैं और अपने हर एक लक्ष्य; हमारा स्वास्थ, सुंदरता, धन या अपनी भूमिकाओं

Read More »