Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

क्या आप स्वयं को बदलने की गहरी इच्छा रखते हैं?

May 21, 2024

क्या आप स्वयं को बदलने की गहरी इच्छा रखते हैं?

कई बार, हम अपने आत्म-परिवर्तन के इरादों में ऊपर-नीचे होते रहते हैं। जब भी कुछ गलत होता है तो हम ऊपरी तौर पर बदलाव करने की शुरुआत बड़े उत्साह से करते हैं। अधिकतर समय हमारा ध्यान इस बात पर रहता है कि क्या बदलना है और कैसे बदलना है। लेकिन जब तक परिवर्तन (सेल्फ ट्रांसफॉर्मेशन) की इच्छा व चाहत तीव्र या गहरी न हो, तो परिवर्तन संभव नहीं है। कई बार हम कहते हैं-मुझे अपनी यह आदत बदलनी है… मुझे अपना यह व्यवहार बदलना है… लेकिन अक्सर अपने सब कॉन्शियस माइंड में, हम एक सूक्ष्म विचार डाल देते हैं कि-मैं जैसा हूं, ठीक हूं। अत: जब तक मन में परिवर्तन की गहरी चाहत नहीं होगी, तब तक हम प्रोग्रेस नहीं कर सकेंगे। आएं इससे जुड़े कुछ पॉइंट्स को जानें:

 

  1. स्वयं से पूछें कि, आप क्यों बदलना चाहते हैं? क्या ऐसा इसलिए तो नहीं है कि कोई अन्य व्यक्ति आपकी आदतों या व्यवहार से सहज नहीं है? या आप स्वयं परिवर्तन करना चाहते हैं? जब तक आपकी अपनी इच्छा न हो, जो भी परिवर्तन होंगे वे अस्थायी होंगे।

 

  1. अपनी परिवर्तन की इच्छा को तीव्र करें। सबसे पहले अपने पुराने व्यवहार या आदतों को उचित ठहराना बंद करें। इसके बाद, सेल्फ इवेलुएट करें कि, वे आपको और आपके आस-पास के अन्य लोगों को कैसे नुकसान पहुँचा रहे थे। तीसरा, परिवर्तन से होने वाले फायदों की लिस्ट बनाएं। और जब तक बदलाव की तीव्र इच्छा न हो, तब तक उन्हें हर दिन आत्मसात करें।

 

  1. प्रतिदिन सुबह मेडिटेशन का अभ्यास करें और आध्यात्मिक ज्ञान का अध्ययन करें। जिससे मन सही सोच विकसित करेगा और बुद्धि ज्ञान से गहरी होती जाएगी। और साथ ही, आपके पास परिवर्तन करने के लिए जरूरी आंतरिक शक्तियां होंगी। जब आप वास्तव में बदलना चाहते हैं, तो क्यों बदलना है और कैसे बदलना है वो आसान हो जाता है।

 

  1. आप अपने अंदर जो भी बदलाव लाना चाहते हैं उसके लिए एफरमेशन क्रिएट करें। एक बार जब आपका मन, उस दिशा में विचार क्रिएट करने लगेगा तो आपकी बुद्धि इवेलुएट करके निर्णय लेगी और विचार एक्शन में आएंगे। इस तरह से, बार-बार किए जाने वाले कार्य, आपकी आदत व व्यवहार बनकर आपके व्यक्तित्व का हिस्सा बन जाते हैं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

आपका मन भी एक बच्चा है

आपका मन भी एक बच्चा है

मन हमारे बच्चे जैसा है। इसलिए जब हम अपनी जिम्मेदारियां निभाते हैं, तो भी हमारी प्रायोरिटी इस बच्चे की भलाई होनी चाहिए। हमें इसका सही

Read More »