Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

क्या जीवन आपके लिए कॉम्पिटिशन है?

June 6, 2024

क्या जीवन आपके लिए कॉम्पिटिशन है?

कॉम्पिटिशन माना हममें से कौन बेहतर है, कौन नंबर वन है? क्या आप जानते हैं कि, दूसरों से बेहतर बनने की चाहत, एक कभी न ख़त्म होने वाली रेस है। इस रेस में शामिल होने से हमारी प्यार, देखभाल और सहयोग करने की एनर्जी ब्लॉक होने लगती है। हममें से ज्यादातर लोग यह मानते हुए बड़े हुए हैं या फिर कंडीशन्ड हैं कि, जीवन एक प्रतिस्पर्धा यानि कि कॉम्पिटिशन है। आएं इसको और बारीकी से समझें:

 

  1. प्रतिस्पर्धा केवल आपकी प्रोफेशनल लाइफ तक ही सीमित नहीं है। आप अपने परिवार में रहकर भी प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं– जैसे कि, कौन अधिक प्यार करता है, कौन घर की बेहतर देखभाल करता है या कौन अधिक कमाता है इत्यादि।
  2. प्रतिस्पर्धा करने की आपकी नेचर आदत बन जाती है। दूसरों से आगे रहने की कोशिश में आप अपनी अवेयरनेस को खो सकते हैं और अनजाने में ही सही, हर समय भय, तनाव और चिंता में रह सकते हैं।
  3. जब आप किसी से प्रतिस्पर्धा करते हैं तो यह नुकसानदायक होता है। हो सकता है कि, आप या तो अपनी पूरी क्षमता का उपयोग ही न करें और दूसरे व्यक्ति से आगे रहने में ही खुश रहें। या हो सकता है कि, आप अपनी क्षमता से कहीं अधिक काम करने लगें और तनावग्रस्त हो जाएं। ऐसे में, आपका निर्धारित लक्ष्य कि अपना सर्वश्रेष्ठ वर्जन बनने के बजाय, दूसरों से बेहतर बनना हो जाता है। 
  4. कॉम्पिटिशन की बजाय कोऑपरेशन (सहयोग) को अपने जीवन का उद्देश्य बनाएं। आप एक दूसरे के ख़िलाफ़ नहीं बल्कि एक दूसरे के साथ हैं। और ना ही आप किसी दौड़ में हैं बल्कि आप इस यात्रा में साथ हैं। आप जो जानते हैं उसे शेयर करेंगे और आगे बढ़ते हुए, दूसरों को भी साथ लेते जाएंगे। ये सुंदर बदलाव आपके जीवन जीने के तरीके को बदल देगा और आपको उम्मीद से अधिक सफलता दिलाएगा।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

आपका मन भी एक बच्चा है

आपका मन भी एक बच्चा है

मन हमारे बच्चे जैसा है। इसलिए जब हम अपनी जिम्मेदारियां निभाते हैं, तो भी हमारी प्रायोरिटी इस बच्चे की भलाई होनी चाहिए। हमें इसका सही

Read More »