Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

लोगों को आलोचना से नहीं बल्कि आदर भाव से सुधारें

November 5, 2023

लोगों को आलोचना से नहीं बल्कि आदर भाव से सुधारें

आमतौर पर हम सभी के लिए “प्यूर विशेज” रखते हैं, लेकिन जब लोग हमारे अनुसार नहीं होते तो, हम उनकी आलोचना करके अपनी निराशा दिखाते हैं। क्या आप जानते हैं कि, आलोचना (क्रिटिसिज्म) में क्रोध या फिर अस्वीकृति के वायब्रेशन होते हैं, जो आलोचना किए जाने वाले व्यक्ति को चोट पहुँचाने के साथ साथ हमारी आंतरिक शक्ति को भी ख़त्म करते हैं। इसलिए स्टेबल रहकर अपनी प्रतिक्रिया देना फायदेमंद है। क्या आपने कभी किसी बातचीत के दौरान लोगों को बेस्ट रिएक्शन दिए, फिर भी उन्होंने इसे आलोचना या अस्वीकृति के रूप में समझा? क्या आपके निर्देश या सुझाव अक्सर लोगों को थोड़ा हॉर्श या अपमानजनक लगते हैं? और इसके चलते आप लोगों को सलाह देना ही बंद कर देते हैं, क्योंकि आप या समझ नहीं पाते कि, कैसे हम अपनी बात को प्रभावी तरीके से रखें? तो यहां यह समझना जरूरी है कि, रिएक्शन देते हुए यह मायने रखता है कि, हम अपनी बात को कैसे कहते हैं। परिवार, दोस्तों और सहकर्मियों के लिए हमारे इरादे कितने भी प्यूर क्यों न हों, लेकिन उस समय हमें अपनी एनर्जी और वायब्रेशन का ध्यान रखना होगा। यदि हमारी एनर्जी आलोचनात्मक है तो दूसरा व्यक्ति डिफेंसिव (रक्षात्मक), कमज़ोर और आहत हो जाता है और अपने दर्द के लिए हमें जिम्मेदार ठहराता है और नेगेटिव वायब्रेशन क्रिएट करता है।

आलोचना एक तरह का भावनात्मक शोषण है, यह व्यक्ति के कार्य पर फोकस ना करके, उन्हें टारगेट करता है। इसलिए हमें समझ, प्यार और सम्मान की एनर्जी के साथ अपने रिएक्शन देने की ज़रूरत है ताकि दूसरा व्यक्ति इसे स्वीकार करे और बदलाव के लिए इच्छुक हो जाए। तो ध्यान रखें कि, अगली बार जब लोग अलग-अलग तरीकों से व्यवहार करें, काम करें जो आपके अनुसार ठीक न भी हो, तो भी उन्हें एंपावर करें। कम शब्दों का प्रयोग करते हुए धीरे बोलें और उनका मार्गदर्शन करें। साथ ही स्वयं को याद दिलाएं – मैं अपने विनम्रता पूर्वक और यूजफुल फीडबैक से लोगों को सशक्त बनाता हूं। उनके परिवर्तन में मदद करता हूं और उनका आशीर्वाद प्राप्त करता हूं। लोगों को स्वीकार करें और उनकी आलोचना करना बंद करें, ऑर्डर देने के बजाय दयालु और देखभाल करने वाले बनें। आप पाएंगे कि, एक बार आलोचना करना बंद कर देने से आप जीवन की सराहना करने की अपनी क्षमता को और अधिक बढ़ा लेंगे। अपने आप को याद दिलाएं – मैं लोगों को गरिमा और आदर भाव के साथ करेक्ट करता हूं। जो कुछ गलत हुआ, उस पर फीडबैक देकर उन्हें सुधारने में मदद करता हूं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

व्यक्तित्व स्तर पर, अच्छाईयां हमारा ओरिजिनल नेचर है जबकि बनावटी या नकारात्मक व्यक्तित्व विशेषताएँ हम एक्वायर करते हैं। एक व्यक्ति जो जीवन भर अच्छे कर्म

Read More »