Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

EN

नेगेटिव एनर्जी के आदान प्रदान के चक्र को कैसे तोड़ें (भाग 3

November 27, 2023

नेगेटिव एनर्जी के आदान प्रदान के चक्र को कैसे तोड़ें (भाग 3)

किसी भी व्यक्ति के साथ “नेगेटिव एनर्जी के आदान-प्रदान के चक्र” को तोड़ने में एक सरल और पॉजिटिव दृष्टिकोण; एक गहन आंतरिक अहसास है कि उस समय उस आत्मा में शांति और प्रेम की कमी है। लेकिन इस एहसास का फाउंडेशन एक नम्र अवेयरनेस होनी चाहिए नाकि ईगो पर आधारित अवेयरनेस, जो उस स्थिति को बेहतर बनाने के बजाय, सूक्ष्म स्तर पर उसे और अधिक अनस्टेबल कर दे। तो इस नम्रतापूर्वक अहसास के आधार पर उस समय मेरा कर्तव्य है कि – परमात्मा के प्रेम और शांति के अनंत खजाने के साथ दूसरी आत्मा की सेवा करना।

तो, प्रतिदिन एक बार 5 मिनट के लिए क्रिएटिव “सकारात्मक और शक्तिशाली थॉट्स” के वायब्रेशन का शुद्ध दान, उस दूसरे व्यक्ति के लिए “प्यार और शांति” के मरहम का काम करता है। इस तकनीक के द्वारा आप अपने हल्केपन, संतुष्टता और सद्भावना की भावनाएं (जिस भी व्यक्ति के साथ कुछ समस्याएं हैं) उस तक पहुंचती हैं। इस तरह से, उस व्यक्ति में रेडिएटेड पॉजिटिव इमोशंस उसे अपने अंदर की नेगेटिविटी का अहसास कराते हैं और यह नेगेटिविटी उस व्यक्ति की कमजोरियों या उसके द्वारा किए गए गलत कार्यों के रूप में हो सकती है। और उनको यह अहसास एक बदलाव के लिए प्रेरित करता है। साथ ही हमारा खुशनुमा चेहरा सामने वाले का दिन बना देता है और इसके साथ ही हमारी उमंग उत्साह, मधुरता, खुशी और संतुष्टि की भावनाओं से भरी संगत उनके व्यवहार में बदलाव लाती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमारे यह कार्य उनके लिए शिक्षक बन जाते हैं और वे अधिक विनम्र होकर, अच्छा और सकारात्मक बनने के लिए प्रेरित होते हैं। इसके अलावा, विनम्रता और नरमाहट के साथ बोले गए कम लेकिन मूल्यवान शब्द नेगेटिव एनर्जी के आदान-प्रदान को समाप्त करने में मदद करते हैं। साथ ही, वे दूसरों के साथ-साथ उस स्थिति से जुड़े लोगों का “आशीर्वाद और शुभकामनाएंभी जीत पाते हैं।

(कल भी जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अपने पास्ट से सीखें

अपने पास्ट से सीखें

क्या आपने अपनी पास्ट लाइफ में की गई गलतियों से कुछ सीखने की उम्मीद से कभी झांकने की कोशिश करते हुए आखिर में, स्वयं को

Read More »
एक्सपेक्टेशन न करें

एक्सपेक्टेशन न करें

आप सभी ने अपने जीवन में, कभी न कभी ये अनुभव किया होगा कि, आप अपने साथ काम करने वाले कलीग को उसके प्रोजेक्ट पूरा

Read More »