Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

नेगेटिव एनर्जी के आदान प्रदान के चक्र को कैसे तोड़ें (भाग 4)

November 28, 2023

नेगेटिव एनर्जी के आदान प्रदान के चक्र को कैसे तोड़ें (भाग 4)

किन्हीं दो लोगों के बीच नेगेटिव एनर्जी के आदान-प्रदान का एक मूल कारण पर्सनालिटी या स्वभाव का टकराव है। यह उन दो लोगों के बीच हो सकता है जो गलत हैं या फिर ऐसे दो लोगों के बीच, जिनमें से एक सही है और दूसरा गलत है और कभी कभी उन दो लोगों के बीच ही सकता है जो अपने अपने तरीके से सही हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कभी-कभी दो लोगों की पर्सनैलिटी सही होने के साथ साथ उनके काम करने के और सोचने के तरीके भी सही होते हैं, लेकिन उनमें अंतर होता है। उनकी पर्सनालिटी का यह टकराव दोनों में ईर्ष्या पैदा करता है, जो नफरत का रूप लेकर क्रोध में बदल जाती है, जिससे दोनों को ही चोट पहुँचती है। तो सवाल यह है कि कोई कैसे इसे ठीक कर सकता है? इसके लिए सबसे जरूरी है; “अहंकार या इगो का त्याग”। अक्सर दो लोग जो सही हैं, उनके बीच नेगेटिव एनर्जी के आदान-प्रदान का कारण उनका सूक्ष्म अहंकार होता है, और जो तब ही समाप्त होगा जब उनमें से कोई एक अपने अहंकार का त्याग करेगा। अक्सर यह कहा जाता है कि जो अपने अहंकार का त्याग करता है, वह अलग अलग पर्सनालिटी वाले लोगों के समूह द्वारा दुआएं प्राप्त करता है क्योंकि वह आपसी रिश्तों में सद्भावना लाता है।

 

जो व्यक्ति अहंकार का त्याग करता है वह इतना “परिपक्व और विनम्र” होता है कि उसे यह एहसास रहता है कि किसी व्यक्ति विशेष के साथ नेगेटिव एनर्जी के आदान-प्रदान को खत्म करने की जिम्मेदारी उसकी स्वयं की है। ऐसे व्यक्ति की नाजुक बुद्धि, स्थिति के अनुसार खुद को ढालने या समायोजित करने के साथ साथ इस नेगेटिविटी के आदान-प्रदान को खत्म किए जाने के महत्व को अच्छे से समझती है। और ऐसे व्यक्ति में शुभकामनाएं भरपूर होती हैं। वह अपने हित का त्याग करेगा, मैं सही हूँ की अवेयरनेस और चीज़ों के प्रति भी अपनी अवेयरनेस का त्याग करेगा और दूसरे के हित को पहले रखेगा। साथ ही, वह अपने नाम, मान, शान का त्याग कर दूसरों की महिमा करेगा। ऐसा व्यक्ति आमतौर पर दूसरे की, उसके काम करने के तरीके या उसकी पर्सनालिटी के बारे में; चाहे अकेले में चाहे किसी ग्रुप में; उसकी प्रशंसा करेगा। और ऐसा व्यक्ति ही उस व्यक्ति के लिए एक शिक्षक और मित्र बन जाता है जिसके साथ वह पहले एक नेगेटिव बंधन में बंधा था, लेकिन अब नेगेटिव एनर्जी के आदान-प्रदान को समाप्त करने का एक जरिया बन जाता है।

(कल भी जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

जिंदगी की दौड़ में ना भागें…. प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

जिंदगी की दौड़ में ना भागें….प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

हर मनुष्य खुशियां चाहता है। हम अपने लिए खुशियों को ढूंढते रहते हैं और अपने हर एक लक्ष्य; हमारा स्वास्थ, सुंदरता, धन या अपनी भूमिकाओं

Read More »