Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

परिवर्तन में स्टेबल रहने के 5 तरीके

November 9, 2023

परिवर्तन में स्टेबल रहने के 5 तरीके

स्वयं के साथ समय बिताएं और आत्मनिरीक्षण करें –

जब हम अपने जीवन में किसी भी प्रकार का परिवर्तन वा बदलाव देखते हैं, तो हमें उसके विभिन्न दृश्यों से प्रभावित होने के बजाय, स्थिरता और शांति के थॉट्स क्रिएट करने के लिए अपने भीतर छुपे पॉजिटिव खजाने को चेक करने की आवश्यकता है। अपने अंदर की ताकत के साथ परिस्थिति को डील करने के उद्देश्य से एक्शन में आएं।

 

वर्तमान स्थिति से परे देखें –

अक्सर जब हम अपने जीवन में, स्वास्थ्य, धन, परिवार या काम में अचानक बदलाव का अनुभव करते हैं, तो हम चिंता करना शुरू कर देते हैं कि, क्या हुआ है, क्यों हुआ है और हम इस बदलाव का सामना कैसे करेंगे? लेकिन इसके विपरित हमें उस बदलाव को अपने विवेक के द्वारा अलग ढंग से देखने और उसमें पॉजिटिव लाने की आवश्यकता है।

 

परिवर्तन के समय स्वयं को तैयार करने के लिए कदम उठाएं –

कभी-कभी हमारे जीवन में अचानक आया हुआ परिवर्तन हमें आश्चर्यचकित कर देता है और हम समझ नहीं पाते कि क्या करना है, कैसे करना है क्योंकि, हम उसे एक्सेप्ट नही कर पाते हैं, और रोकने की कोशिश करते हैं। लेकिन हमें यह जानने की जरूरत है कि बदलाव हमारे जीवन का स्वाभाविक हिस्सा है और समय-समय पर होता रहेगा। तो जितना अधिक हम स्वयं को इसके अनुकूल ढालेंगे, हम उतने ही कम विचार क्रिएट करेंगे और अपना समय और एनर्जी भी बचा पाएंगे।

 

स्वयं में बदलाव लाएं और आगे बढ़ें –

बदलाव के समय खुद को बदलने और अपनी शक्तियों को बढ़ाने और अपने रियल सेल्फ को करीब से जानने पर ध्यान दें। परिवर्तन हमें अपने ओरिजनल गुणों के खजाने; शांति, प्रेम, आनंद और अपने विचारों और समय के खजाने की मदद से, नई और सुंदर स्थितियाँ बनामें का संदेश देता है जिससे हम खुद को और दूसरों को भी हेल्प कर सकेंगे।

 

परमात्मा को सदा साथ रखें और उससे डायरेक्शन मांगें –

कुछ लोग परमात्मा को जीवन में आए कठिन बदलाव से निपटने के समय ही याद करते हैं, लेकिन ज़रूरी है कि हर पल उन्हें याद करें, अपने साथ रखें जिससे यह गहरा संबंध आपको उनसे जल्दी डायरेक्शन दिलवाएगा क्योंकि, परिवर्तन के समय वे हमारी रक्षा करते हैं और हमारा मार्गदर्शन भी करते हैं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए