Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

पॉजिटिव सोच और विजुअलाइजेशन (मानसिक दृश्य)

November 24, 2023

पॉजिटिव सोच और विजुअलाइजेशन (मानसिक दृश्य)

हम सभी लगातार पॉजिटिव तरीके से सोचने, पॉजिटिव मानसिकता पैदा करने और पॉजिटिव होने के बारे में सुनते रहते हैं। लेकिन इसका रियल अर्थ क्या है; पॉजिटिव सोच माना हर पल सही सोच। इसमें हम श्रेष्ठ बनने की उम्मीद करते हैं, उसकी कल्पना करते हैं, लेकिन अगर उस अनुसार रिज़ल्ट ना भी मिलें, तो जो भी परिणाम हो, उसे स्वीकार करते हैं कि, इस समय यह परिणाम हमारे कर्मों के हिसाब से एकदम एक्यूरेट है। और यही एक्सेप्टेंस सकारात्मक सोच का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

तो आइए, कुछ पल के लिए बैठकर देखें कि हमें अपने माइंड को सकारात्मक सोच के लिए कैसे तैयार करना चाहिए –

एफरमेशन:

मैं एक शक्तिशाली प्राणी हूँ। मैं अपने जीवन में आने वाले हर दृश्य से संतुष्ट हूं। सब कुछ सही तरीके से और सही समय पर, बिल्कुल वैसा ही हो रहा है जैसा होना चाहिए… मैं हर सीन में केवल पॉजिटिव थॉट्स क्रिएट करता हूं… मेरे थॉट्स मेरी शांति, पवित्रता और शक्ति को रिफ्लेक्ट करते हैं… और मैं आने वाले हर सीन में बेस्ट देने की कल्पना करता हूं… चाहे वो घर के लिए हो… कार्यालय के लिए हो… दोस्तों के साथ हो … मैं हर दृश्य में सही सोच के साथ हाइएस्ट वायब्रेशन रेडिएट करता हूं… मेरे वायब्रेशन हर सीन को श्रेष्ठ बनाते हैं…. हो सकता है कि आज जीवन के दृश्य मेरे अनुसार न भी हों। फिर भी यदि लोग सही बिहेव नहीं करते हैं, लेकिन मैं केवल पॉजिटिव थॉट्स क्रिएट करता हूं यह सोचकर कि – यह उनका नेचर है, और उनका ये व्यवहार मेरे कर्मों के हिसाब से बिल्कुल ठीक है। मैं हर जवाब करुणा के साथ देता हूं, अस्वीकृति या ठेस की भावना के साथ नहीं। आज परिस्थितियाँ भले ही मेरे अनुकूल नहीं हैं। मैं ये पॉजिटिव सोच क्रिएट करता हूं – मैं समझ सकता हूं कि यह परिस्थिति वैसी ही है जैसी इस समय होनी चाहिए थी, मेरे पिछले कर्मों के हिसाब से एकदम ठीक। मेरा मन शांत रहता है…कोई प्रश्न नहीं…कोई निर्णय नहीं… मैं हर सीन को स्वीकार करता हूं। लोग अपने हिसाब से चलेंगे … स्थिति वैसी हो सकती है जैसी उसे होना चाहिए… मैं अपने तरीके से सही कार्य करके पॉजिटिव रिजल्ट को प्रभावित करता हूं। मेरे ये पॉजिटिव थॉट्स मुझे खुश और स्वस्थ रखते हैं।

इस एफरमेशन को प्रतिदिन दोहराएँ। आपकी सकारात्मक सोच से एक्सपेक्टेशन स्वीकृति में बदल जाएंगी। और आप जीवन के उन दृश्यों के बारे में कोई निगेटिव इंप्रेशन भी नहीं रखेंगे। इस तरह से आपका माइंड एक नई, सकारात्मक भाषा सीखने के साथ, केवल सही विचार क्रिएट करेगा।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाई की अपनी ओरिजिनल स्टेट यानि कि वास्त्विक्ता में लौटने के लिए, हमें आध्यात्मिक शक्तियों और सकारात्मकता के एक हाई सौर्स यानि कि परमात्मा से

Read More »
अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

व्यक्तित्व स्तर पर, अच्छाईयां हमारा ओरिजिनल नेचर है जबकि बनावटी या नकारात्मक व्यक्तित्व विशेषताएँ हम एक्वायर करते हैं। एक व्यक्ति जो जीवन भर अच्छे कर्म

Read More »