Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

दूर होते हुए प्रियजनों को करीब लाएं

May 9, 2024

दूर होते हुए प्रियजनों को करीब लाएं

हममें से ज्यादातर लोग प्यार, सम्मान और स्वीकृति पाने के लिए रिश्ते बनाते हैं, बिना यह सोचे समझे कि, हमारी भूमिका पाने के साथ-साथ देने की भी है। और जब हमारी उम्मीदें पूरी नहीं होतीं, तो हम लोगों को बदलने की कोशिश करते हैं, जिसका मतलब है कि, हम उन्हें वैसे स्वीकार नहीं करते, जैसे वो हैं। इस प्रकार हम उन्हें नेगेटिव एनर्जी भेजते हैं, जिससे वे हमसे दूर होते जाते हैं। हम अपने प्रियजनों के साथ बहुत सारे प्रॉमिसेस करते हैं, लेकिन आजकल लोग जिस तरह से एक-दूसरे से दूर होते जा रहे हैं, वो चिंताजनक है। इन सबके बीच एक अच्छी खबर यह है कि, दो लोगों में से कोई एक, दूसरे को हील करने और अपने इस बॉन्ड को फिर से हार्मोनियस बनाने की जिम्मेदारी ले सकता है। आइए इससे जुड़ी कुछ बातों को जानें:

 

  1. किसी प्रियजन के आपसे दूर जाने के पीछे अपने कंट्रीब्यूशन को परखें, उस व्यक्ति के बारे में अपनी धारणा पर विचार करें – हो सकता है कि, आपने उस व्यक्ति को नेगेटिव रूप से देखा हो, उसके प्रति नेगेटिव थॉट क्रिएट किए हों, नेगेटिव फीलिंग्स वा दृष्टिकोण रखा हो या फिर नेगेटिव तरीके से  बिहेव किया हो, और इन सबके चलते हमारे द्वारा नेगेटिव एनर्जी रेडिएट हुई हो।

 

  1. हर दिन, प्रेम और करुणा के अपने गुणों को शक्तिशाली बनाने के लिए मेडिटेशन का अभ्यास करें। ऐसा करके आप अपने दर्द को हील करने में सक्षम होंगे। और बेहतर महसूस करने के लिए, आप दूसरे व्यक्ति से माफी की उम्मीद नहीं करेंगे।

 

  1. इस बात पर ध्यान दें कि, आप उनके बारे में क्या सोचते और महसूस करते हैं, न कि इस बात पर कि वे आपके बारे में क्या सोचते हैं। उन्हें स्वीकार करें, उनके गुणों पर ध्यान दें, साथ ही प्रेम, स्वीकृति और सम्मान की एनर्जी रेडिएट करें। आपकी यह एनर्जी उन्हें ठीक करना शुरू कर देगी। 

 

  1. दूसरा व्यक्ति हमारे प्रति अपना दर्द या गुस्सा बरकरार रख सकता है। उन्हें समय दें और हो सकता है कि वो रिश्ता दोबारा कायम न हो सके फिर भी उस व्यक्ति के साथ एनर्जी एक्सचेंज की क्वॉलिटी बदल जाती है।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

मित्रता को रिन्यू करें और आध्यात्मिक बाँडिंग को बढ़ाएं

मित्रता को रिन्यू करें और आध्यात्मिक बाँडिंग को बढ़ाएं

आजकल लगातार बढ़ती जिम्मेदारियों के कारण, मित्रता कहीं पीछे छूट जाती है। और  कभी-कभी आपसी मतभेदों के चलते हम आहत महसूस करते हैं और दोस्तों

Read More »