Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

आत्म सशक्तिकरण

अपने दिन को बेहतर और तनाव मुक्त बनाने के लिए धारण करें सकारात्मक विचारों की अपनी दैनिक खुराक, सुंदर विचार और आत्म शक्ति का जवाब है आत्म सशक्तिकरण ।

जिंदगी की दौड़ में ना भागें…. प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 3)

जिंदगी की दौड़ में ना भागें….प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 3)

प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करने के लिए, हमें खुद को इस बिलीफ़ से भी फ्री रखना होगा कि सिर्फ भविष्य ही सबसे ज्यादा मायने रखता है। सामाजिक रूप से मान्य लक्ष्यों को प्राप्त करने की ट्रेडमिल पर दौड़ते-दौड़ते ऐसा लगता है कि हम एक न

Read More »
जिंदगी की दौड़ में ना भागें…. प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 2)

जिंदगी की दौड़ में ना भागें….प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 2)

ख़ुशी और सफलता वास्तव में एक दूसरे से जुड़े हुए हैं या यूं कहें कि एक ही सिक्के के दो पहलू हैं; जिन्हें पर्सु यानि कि उनका पीछा नहीं किया जा सकता। यदि हम अपने जीवन में सोल कांशियसनेस यानि आत्मिक चेतना का अभ्यास करते

Read More »
जिंदगी की दौड़ में ना भागें…. प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

जिंदगी की दौड़ में ना भागें….प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

हर मनुष्य खुशियां चाहता है। हम अपने लिए खुशियों को ढूंढते रहते हैं और अपने हर एक लक्ष्य; हमारा स्वास्थ, सुंदरता, धन या अपनी भूमिकाओं को महत्व देते हैं क्योंकि हमें लगता है कि इन सभी चीजों से हमें खुशियां मिलेंगी। वैसे तो आज विज्ञान

Read More »
देवी-देवताओं के 36 दिव्य गुण

देवी-देवताओं के 36 दिव्य गुण

कल के मैसेज में, हमने देवी-देवताओं में विद्यमान 36 दैवीय गुणों के बारे में जाना। आइए, अब हम हर एक गुण को परखें और  इन्हें स्वयं में धारण करें, जिससे हम खुद को परफेक्ट, प्योर और प्रशंसा के योग्य बना सकें। क्योंकि जितना अधिक हम

Read More »
15th june 2024 soul sustenence hindi

देवी-देवताओं की 5 योग्यताएँ

परमात्मा, वर्तमान संगमयुग जो कलियुग (आयरन युग) के अंत (मानवता की रात) और सतयुग (गोल्डन युग) की शुरुआत से पहले (मानवता के दिन) के बीच, अस्तित्व में है; मनुष्यों को देवी-देवताओं के रूप में बदल रहे हैं। देवी-देवताओं की 5 मुख्य योग्यताएँ हैं, जिन्हें हम

Read More »
14th june 2024 soul sustenence hindi

विनम्र रहें और सभी को सम्मान दें

प्रत्येक समाज और यहाँ तक कि प्रत्येक परिवार आपसी व्यवहार को मेंटेन रखने के लिए कुछ नियमों का पालन करते हैं। ये नियम लोगों को उनके रोल और पोजिशन के आधार पर रिगार्ड देने के लिए एक कोड ऑफ कंडक्ट की तरह काम करते हैं।

Read More »
खुशियों को सही तरीके से जीना (भाग 3)

खुशियों को सही तरीके से जीना (भाग 3)

ख़ुशी हमारे मन की एक अवस्था है न कि बाहरी प्रभावों पर आधारित कोई चीज़। माना कि आप एक बड़ी खुशखबरी सुनते हैं कि- आपको अपने ऑफिस में प्रमोशन मिला है! यह सुनकर आपको बहुत अच्छा लगता है और ख़ुशी भी मिलती है, देखा जाए

Read More »
खुशियों को सही तरीके से जीना (भाग 2)

खुशियों को सही तरीके से जीना (भाग 2)

आजकल कुछ लोगों के लिए खुशियां; मेटेरियलिज्म, विज्ञान एवं तकनीक के अलग-अलग माध्यमों का आनंद लेने पर ज्यादातर आधारित है। क्या आप जानते हैं इस तरह की खुशी के दो पहलू होते हैं। जब जीवन में सबकुछ अच्छा चल रहा है मतलब किसी भी प्रकार

Read More »
खुशियों को सही तरीके से जीना (भाग 1)

खुशियों को सही तरीके से जीना (भाग 1)

हमारे जीवन का एक बहुत महत्त्वपूर्ण और प्रभावशाली पहलू; जो हमारे जीने के तरीक़े को डिफाइन करता है वो है उम्मीद और दृढ़संकल्प। जीवन की सफलता बड़े पैमाने पर इन दो शक्तियों पर निर्भर करती है। अक्सर हम सभी देखते हैं कि किसी कठिन परिस्थिति

Read More »
जब जरूरी हो तब ही दूसरों के बारे सोचें

जब जरूरी हो तब ही दूसरों के बारे सोचें

विज्ञान का ये एक बहुत ही सरल नियम है कि हम जिसके बारे में सोचते हैं, मानसिक रूप से उनसे जुड़ जाते हैं। अगर हम किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में सोचते हैं जो परेशान है या दर्द में है, तो हम भी दर्द महसूस

Read More »
हल्केपन से लेट गो करें

हल्केपन से लेट गो करें

लेट गो करना हमारी उस क्षमता को दर्शाता है कि, किस प्रकार जो भी चीज हमारी आत्मा के लिए सही या हेल्दी नहीं है हम उसे छोड़ सकते हैं। इसका मतलब है कि अतीत के बोझ को हम अपने वर्तमान या भविष्य में नहीं ले

Read More »
8th june 2024 soul sustenence hindi

गैजेट्स के एडिक्शन पर काबू कैसे पाएं?

क्या आप हर 10 मिनट में अपना फ़ोन चेक करते हैं? और क्या आप तब नर्वस हो जाते हैं जब आपके फोन की बैटरी 20 परसेंट तक हो जाती है? या फिर क्या आप खाना खाते समय मोबाइल या टीवी स्क्रीन देखना बंद नहीं कर

Read More »
7th june 2024 soul sustenence hindi

लगातार हाई सेल्फ एस्टीम का अनुभव कैसे करें?

शुरुआत में किसी भी रिश्ते में, चाहे पर्सनल या फिर प्रोफेशनल, पूरी तरह से पॉजिटिव प्रोजेक्शन दिखाई देते हैं। एक व्यक्ति है जो आपके ऊपर सारे पॉजिटिव प्रोजेक्शन लगाता है कि: आप अद्भुत हैं, अद्वितीय हैं, भरोसेमंद हैं, मूल्यवान हैं आदि। क्या आप जानते हैं

Read More »
क्या जीवन आपके लिए कॉम्पिटिशन है?

क्या जीवन आपके लिए कॉम्पिटिशन है?

कॉम्पिटिशन माना हममें से कौन बेहतर है, कौन नंबर वन है? क्या आप जानते हैं कि, दूसरों से बेहतर बनने की चाहत, एक कभी न ख़त्म होने वाली रेस है। इस रेस में शामिल होने से हमारी प्यार, देखभाल और सहयोग करने की एनर्जी ब्लॉक

Read More »
आत्मा और उसके द्वारा किए जाने वाले काम का अहसास होना (भाग 3)

आत्मा और उसके द्वारा किए जाने वाले काम का अहसास होना (भाग 3)

जब भी आप सुबह उठें तो अपने आप से कहें कि, मैं एक स्पिरिचुअल एनर्जी हूं जो फिजिकल शरीर से बिल्कुल अलग है और यह 5 भौतिक तत्वों से बनी हुई नहीं है। जबकि भौतिक शरीर इन्हीं तत्वों से बना हुआ है। ह्यूमन बीइंग शब्द

Read More »
4th june 2024 soul sustenence hindi

आत्मा और उसके द्वारा किए जाने वाले काम का अहसास होना (भाग 2)

आत्मा एक नॉन फिजिकल एनर्जी है जोकि शरीर को ठीक उसी तरह से चलाती है जिस तरह से इलेक्ट्रिकल एनर्जी से टीवी चलता है। क्योंकि बिना इलेक्ट्रिकल एनर्जी के, टीवी जो एक कॉम्प्लेक्स मशीन; चाहे वो बड़ी हो या छोटी हो, अपने सभी पार्ट्स के

Read More »
आत्मा और उसके द्वारा किए जाने वाले काम का अहसास होना (भाग 1)

आत्मा और उसके द्वारा किए जाने वाले काम का अहसास होना (भाग 1)

क्या आपको कभी अपने अतीत पर आश्चर्य हुआ है या कभी आपको ये विश्वास हुआ है कि, जीवन शाश्वत है या दूसरे शब्दों में कहें तो जीवन सिर्फ एक जन्म की ही सच्चाई नहीं है? हम सभी ये जानते हैं कि आत्मा क्या है और

Read More »
कठिन परिस्थितियों में नथिंग न्यू के प्वाइंट को एप्लाई करें

कठिन परिस्थितियों में नथिंग न्यू के प्वाइंट को एप्लाई करें

क्या आप जानते हैं कि ऐसा क्यूँ होता है, जब हम किसी नई नकारात्मक परिस्थिति का सामना करते हैं तो हमें ये महसूस होता है कि ये पिछली परिस्थितियों से ज्यादा कठिन है और इस बार इसको पार करना आसान नहीं होगा। इसके साथ ही,

Read More »
आलोचना में स्टेबल कैसे रहें

आलोचना में स्टेबल कैसे रहें

आलोचना या क्रिटिसिज्म का स्वरूप चाहे कैसा भी हो और इसके पीछे की मंशा चाहे कुछ भी हो, पर इसे स्वीकार करना मुश्किल होता है। लेकिन जब हम ये सीख लेते हैं कि हमें इससे कैसे डील करना है तो निश्चित रूप से इसके द्वारा

Read More »
अपने बिलीफ सिस्टम को बदलें और पॉजिटिव भाग्य बनाएं

अपने बिलीफ सिस्टम को बदलें और पॉजिटिव भाग्य बनाएं

हमारे विचारों को प्रभावित करने वाले तीन फैक्टर्स होते हैं; पास्ट के हमारे अनुभव, इन्फॉर्मेशन और हमारे बिलीफ सिस्टम। बिलीफ सिस्टम हमारे थॉट्स को निर्धारित करते हैं जिनसे फिर हमारा भाग्य बनता है। ऐसे ही, हमारे कुछ साधारण से बिलीफ सिस्टम के कारण तनाव, दर्द

Read More »

मेडिटेशन सॉंग