प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व-विद्यालय

स्वयं परमपिता परमात्मा द्वारा स्थापित एक वैश्विक आध्यात्मिक संगठन है, जिसका सफलतापूर्वक प्रबंधन और संचालन मातृशक्ति द्वारा, परमात्मा के निर्देशानुसार बहुत ही सुचारू रूप से किया जा रहा है। इस संस्था का लक्ष्य है; शांतिमय विश्व की पुनर्स्थापना जिसका आधार है “स्व परिवर्तन से विश्व परिवर्तन”। 

यह अनोखा संगठन पिछले कई दशकों से; मनुष्यों को सहज राजयोग की विधि सिखाने के साथ साथ, परमपिता परमात्मा से जुड़कर अपनी आंतरिक शक्तियों को जागृत करने का और उन्हें अपने जीवन में धारण करने का सुंदर अवसर प्रदान कर रहा है। साथ ही, यह संगठन, आध्यात्मिक अध्ययन द्वारा हर एक मानव के जीवन में श्रेष्ठ बदलाव लाने के लिए भी प्रतिबद्ध है। संक्षेप में, यह संस्था किसी भी मानव को राष्ट्रीयता, धर्म, जाति, पंथ, लिंग आदि के आधार पर पहचान किए बिना उनकी अलौकिकता, आध्यात्मिकता और विशिष्टता को अति स्नेह और ममतामयी पालना द्वारा निखारने में मदद करती है।

नियमित स्टूडेंट
0 लाख +
मेडिटेशन सेंटर
0 +
रिट्रीट सेंटर
0 +
देश
0 +

सहज राजयोग

परमात्मा द्वारा शिक्षित राजयोग मेडिटेशन एक ऐसा अभ्यास है जिसके माध्यम से हम परमात्मा से जुड़ना सीखते हैं। राजयोग के नियमित अभ्यास से हम परमात्मा से सर्व संबंधों की अनुभूति एवं सर्व शक्तियों की स्वयं में धारणा कर सकते हैं। यह एक बेहद सरल परंतु शक्तिशाली अभ्यास है, जो कहीं भी, किसी भी समय और खुली आँखों के साथ किया जा सकता है।

अलौकिक अनुभूतियां करें

राजयोग अभ्यास के रमणीक अनुभव में खो जाने के लिए, बस कुछ क्षण का समय निकालें और हमारे मार्गदर्शन में इसका सुखद अनुभव लें। आप इसके बेहतर अनुभव के लिए हेडफ़ोन का उपयोग भी कर सकते हैं।

योग
योग
पवित्रता
पवित्रता
प्रेम
प्रेम
सुख
सुख
शांति
शांति

मुख्यालय एवं सेवाकेंद्र

राजयोग के नियमित अभ्यास द्वारा दुनिया भर में शांति के प्रकंपन फैलाने हेतु, ब्रह्माकुमारीज़ संगठन विश्व के 110 से अधिक देशों में कार्यरत है, जिसका अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय माउंट आबू की आकर्षक अरावली पहाड़ियों में स्थित है।

अपने निकटतम राजयोग केंद्र की जानकारी के लिए, कृपया नीचे दिए गए बॉक्स का उपयोग करें।

Pandav bhavan thumbnail
Play Video about Pandav Bhavan Thumbnail
Shantivan brahma kumaris 12
Play Video about Shantivan Brahma Kumaris 12
Gyan sarovar mount abu 11
Play Video about Gyan Sarovar Mount Abu 11
Soulsustenance image

परमात्मा कैसे इस विश्व को प्योर बनाते हैं? (भाग 2)

परमात्मा; सदा और परिवर्तन से परे हैं और वे अपनी पवित्रता, गुणों और शक्तियों में सदा भरपूर और स्थिर रहते हैं। जैसा कि उन्होंने अपने आध्यात्मिक ज्ञान के माध्यम से प्रकट किया है, कि इस पृथ्वी ग्रह पर, 5000 वर्षों का विश्व नाटक चार समान स्टेजेस से गुजरता है- 1250 वर्षों का हरएक युग; स्वर्णContinue reading

और पढ़ें

परमात्मा कैसे इस विश्व को प्योर बनाते हैं? (भाग 1)

हम सभी 8 अरब व्यक्तियों और बड़ी संख्या में जानवरों, पक्षियों और अन्य जीवों की विभिन्न प्रजातियों की दुनिया में रह रहे हैं। इसके अलावा, दुनिया भौतिक प्रकृति से बनी है जिसमें पाँच तत्व शामिल हैं- पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और अंतरिक्ष। जैसा कि परमात्मा ने बताया है कि वर्ल्ड ड्रामा का यह नियम हैContinue reading

और पढ़ें

दूसरों की आलोचना करने और जज करने से स्वयं को मुक्त रखें

रिश्तों का एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहलू है; अलग-अलग व्यक्तित्व, अलग-अलग बोलचाल, स्वभाव संस्कार वाले लोगों के साथ संपर्क में आना। जहां कुछ शब्द और कार्य नेगेटिव और कुछ पॉजिटिव हो सकते हैं, लेकिन वे हमारी पसंद या फिर एक्सपेक्टेशन के अनुसार नहीं भी हो सकते हैं। अक्सर ऐसी स्थिति में, हम दूसरों के प्रति;Continue reading

और पढ़ें

किसी अपने के जाने के बाद कैसे संभलें

इससे जुड़े 5 स्टेप्स तो जानें:   स्वयं को और अपने प्रियजन को एक आत्मा/ शाइनिंग स्टार के रूप में अनुभव करें- जिस पल आपके परिवार में अचानक किसी की मृत्यु हो जाती है और आप सभी इससे उबर नहीं पाते, ऐसे समय में स्वयं को ये लाइंस प्रतिदिन याद दिलाएं कि- हम और वहContinue reading

और पढ़ें

अपने जीवन वृक्ष की शाखाओं से लगावमुक्त रहें

आजकल एक बहुत ही आम आदत, जो हमारे अंदर गहराई तक घर कर चुकी है वह है कब्ज़ा करने की आदत यानि कि “पजेशन” जो हमें बार-बार झुकाती है। हम अपने जीवन में, बाहरी लेवल पर कई प्रकार के लोगों, भौतिक सुख-सुविधाओं, भूमिकाओं, पदों, अनुभवों, उपलब्धियों और निश्चित रूप से अपने स्वयं के भौतिक शरीरContinue reading

और पढ़ें

ब्रह्माकुमारीज़ के प्रकल्प

कई दशकों से ब्रह्माकुमारीज़ संस्था ने व्यक्तियों, समुदायों और राष्ट्रों के बीच ‘एकता और सद्भाव’, ‘एक विश्व- एक परिवार’ की भावना को बढ़ावा देने हेतु “वसुधैव कुटुंबकम” की प्राचीन अवधारणा का पालन करते हुए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं।

इस विषय विशेष में, ब्रह्माकुमारीज़ की पहल मानवता की पालना करने के साथ-साथ अन्य आवश्यक विषयों: पर्यावरण के प्रति जागरूकता, वैज्ञानिक स्वास्थ्य उपायों को आगे बढ़ाना, मूल्य-आधारित शिक्षा को बढ़ावा देना और निस्वार्थ रूप से समाज के हर वर्ग के उत्थान के लिए योजनाओं का सफलतापूर्वक संचालन करना है।

सामाजिक

Read

पर्यावरण

Read

शिक्षा

Read

स्वास्थ्य

Read

ब्रह्माकुमारीज़ विंग्स

पिछले कई दशकों से, ब्रह्माकुमारीज़ समाज के सभी वर्गों द्वारा “शांतिमय जीवन शैली” अपनाने हेतु 20 शाखाओं के माध्यम से जागरूकता पैदा करने की कार्य में समर्पित है। इन शाखाओं द्वारा आयोजित कार्यक्रमों के माध्यम से, लाखों लोगों के जीवन में व्यक्तिगत और व्यावसायिक विकास के लिए “व्यावहारिक आध्यात्मिकता” से परिचित कराया जा चुका है।

असाधारण यात्रा

एक साधारण शुरुआत से लेकर विश्व आध्यात्मिक संगठन बनने तक, ब्रह्माकुमारीज़ की यात्रा अनोखी और अविस्मरणीय है। 1936 में, शांति को आधार बनाकर एक दैवीय दुनिया स्थापन करने का बीज  स्वयं परमपिता परमात्मा शिव द्वारा बोया गया था, जिसके संस्थापक दादा लेखराज थे; जिन्हें ब्रह्मा बाबा के नाम से जाना जाता है। तब से, संगठन, स्वयं परमात्मा के दिव्य निर्देशों का पालन करते हुए और महिलाओं के नेतृत्व में, शांति की शक्ति से प्रेरित होकर इस दृष्टिकोण को विश्व पटल पर प्रत्यक्ष करने के लिए प्रतिबद्ध है।

संयुक्त राष्ट्र के साथ जुड़ाव

ब्रह्माकुमारीज़, 1980 से सभी देशों के व्यक्तियों को आध्यात्मिक रूप से सशक्त बनाने के लिए, और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपना समर्थन बढ़ाने के लिए संयुक्त राष्ट्र के साथ मिलकर काम कर रही है। 110 से अधिक देशों में फैली ब्रह्माकुमारीज़ संस्था लाखों लोगों को शांतिपूर्ण जीवन जीने में मदद कर रही है।

ब्रह्माकुमारीज़ संयुक्त राष्ट्र का एक अन्तर्राष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठन है। यह संगठन 110 देशों में अपने अन्तर्राष्ट्रीय केंद्रों के नेटवर्क के माध्यम से, लोगों को उनके दैनिक जीवन को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण मामलों पर अपनी राय व्यक्त करने के अवसर प्रदान करती है और सुनिश्चित करती है कि, उनके द्वारा लिखित और मौखिक संदेश बयानों या फिर अन्य किसी पब्लिकेशन के माध्यम से संयुक्त राष्ट्र सम्मेलनों और बैठकों में प्रस्तुत किए जाएं।

प्रख्यात व्यक्तियों द्वारा प्रशंसापत्र

ब्लॉग

अपने दिन को बेहतर और तनाव मुक्त बनाने के लिए धारण करें सकारात्मक विचारों की अपनी दैनिक खुराक, सुंदर विचार और आत्म शक्ति का जवाब है आत्मा सशक्तिकरण ।