Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

28th march soul sustenance hindi

संतुष्टता का गहना पहनो (भाग 2)

जब भी हमारे जीवन की कोई कठिन परिस्थिति हमको प्रभावित करने की कोशिश करती है या दूसरे शब्दों में हमें लगता है कि किसी नेगेटीव घटना की वजह से मन परेशान है तो मानसिक रूप से खुद को सहारा देने के लिए अपने भीतर पोजिटीविटी को ढूंढें। इसके अलावा, हर चीज और हर किसी में अच्छाई को देखें, जो आपको अंदर से शांत और शक्तिशाली बनाए रखेगा। कई बार हम जाने-अनजाने, नेगेटीविटी को अपने मन पर हावी होने देते हैं जोकि हमारे संतोष को कम करने का मुख्य कारण है। कभी-कभी किसी अन्य व्यक्ति की कमजोरी या किसी स्थिति की नेगेटीविटी, हमें अशान्त करके हमारी धारणा और दृष्टिकोण को भी नेगेटीव कर देती है। इसलिए, जितना अधिक हम अपने मन को पोजिटीव जानकारी से, पोजिटीव आध्यात्मिक ज्ञान से, अपने आप को पोजिटीव रखना सीखते है उतना ही हम परिस्थितियों का सामना एक अलग तरीके से करने में, और उस स्थिति को एक दर्शक की तरह देखने में सक्षम हो पाते है ।

संतोष एक बहुत ही महत्वपूर्ण गुण है और सभी अन्य गुणों की जननी के समान है, जहां संतोष है, वहां अन्य सभी गुण स्वतः मौजूद होते हैं। उदाहरण के लिए; धैर्यता का गुण: जो अंदर से संतुष्ट है, वह स्थितियों या घटनाओं के बीतने का वेट करेगा नाकि उनके लिए अपनी धैर्यता को खोएगा। दूसरा उदाहरण है सहनशीलता का  गुण: यदि आप एक संतुष्ट व्यक्ति हैं तो सहनशीलता स्वाभाविक रूप से आपके स्वभाव का हिस्सा होगी क्योंकि आप जितने अधिक भरपूर होंगे, आप लोगों और आने वाली परिस्थितियों पर रिएक्ट नहीं करेंगे, यदि वे आपकी इच्छाओं और अपेक्षाओं के अनुसार नहीं हैं। इसके अलावा, एक और महत्वपूर्ण उदाहरण है विनम्रता का गुण: मैं जितना अधिक तृप्त हूँ, उतना ही अहंकार से मुक्त हूँ, क्योंकि मैं अपने स्वमान के सिंहासन पर स्थिर और अचल हूँ। आत्म-सम्मान या स्वमान का आसन, मुझे किसी भी प्रकार की हीनता और श्रेष्ठता के बंधन से मुक्त करता है।

(कल जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

मित्रता को रिन्यू करें और आध्यात्मिक बाँडिंग को बढ़ाएं

मित्रता को रिन्यू करें और आध्यात्मिक बाँडिंग को बढ़ाएं

आजकल लगातार बढ़ती जिम्मेदारियों के कारण, मित्रता कहीं पीछे छूट जाती है। और  कभी-कभी आपसी मतभेदों के चलते हम आहत महसूस करते हैं और दोस्तों

Read More »