Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

10 पर्ल्स ऑफ मेडीटेशन (भाग 1)

October 9, 2023

10 पर्ल्स ऑफ मेडीटेशन (भाग 1)

क्या आप जानते हैं कि, परमात्मा के साथ योग लगाने से, हम आत्माएं पवित्र व शक्तिशाली बन जाती हैं और साथ ही यह अपने आध्यात्मिक स्व (आत्मा) और सर्वोच्च अस्तित्व यानि कि परमात्मा को गहराई से जानने और महसूस करने का माध्यम भी है। हर दिन मेडीटेशन  प्रैक्टिस करने से हम स्थिर होकर प्रेम और शांति जैसे गुणों से भरपूर बन जाते हैं।

इस संदेश के माध्यम से मेडीटेशन के अभ्यास के द्वारा प्राप्त; 10 प्रकार के मोतियों का एक सुंदर कलेक्शन शेयर किया जा रहा है, जिसमे से आप देखेंगे कि, हर एक मोती एक भरपूर आंतरिक अनुभव है जो हमें सर्वोच्च शक्ति के करीब लाएगा और हमारे जीवन को वैल्यूऐबल बनाकर अच्छाई और शक्तियों से भर देगा। आइए इनके बारे में जानें: 

  1. हर घंटे में, 1 मिनट के लिए अपने मन की आंखों द्वारा अपने मस्तक के बीचों बीच स्वयं को प्रकाशित चमकते हुए सुंदर सितारे के रूप में अनुभव करें, जिसमें से हर एक आत्मा के लिए शांति, प्रेम और प्रसन्नता के गुण सफेद लाइट के रूप में प्रसारित हो रहे हैं।
  2. दिन में कम से कम 10 बार स्वयं को याद दिलाएं कि – मैं परमात्मा; जोकि आध्यात्मिक ज्ञान के सूर्य हैं, उनकी संतान हूं। मैं सदा उनकी पवित्र किरणों की छत्रछाया में रहता हूं और उनके वाईब्रेशन को अपने अंदर एब्जॉर्ब करके; उनके प्रकाश और शक्तियों को पूरे ब्रह्मांड में रेडीएट करके, नेगेटिविटी के अंधकार को दूर करता हूं।
  3. हर सुबह “पवित्रता और गहरी शांति” से भरी आत्मिक दुनिया में परमात्मा के साथ बैठें और शांति और स्थिरता के सागर परमात्मा की गहरी शांति का स्वयं में अनुभव करें। ऐसा नियमित करने से हमारी आत्मा आंतरिक दुख-दर्द से मुक्त होकर शक्तिशाली बन जाएगी।
  4. दिन में कुछ समय के लिए स्वयं से बातें करें कि – मैं आनंद से भरपूर संतुष्ट आत्मा हूं। मैं महसूस करता हूं; परमपिता परमात्मा के आनंद की किरणें मुझ आत्मा पर पड़ रही हैं। और ये किरणें मेरे मन में दूसरों के प्रति घृणा और ईर्ष्या जैसी अशुद्ध भावनाओं को धो रही हैं।

(कल भी जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

मित्रता को रिन्यू करें और आध्यात्मिक बाँडिंग को बढ़ाएं

मित्रता को रिन्यू करें और आध्यात्मिक बाँडिंग को बढ़ाएं

आजकल लगातार बढ़ती जिम्मेदारियों के कारण, मित्रता कहीं पीछे छूट जाती है। और  कभी-कभी आपसी मतभेदों के चलते हम आहत महसूस करते हैं और दोस्तों

Read More »