Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

10th march soul sustenance hindi

तनाव मुक्त जीवन के लिए 5 कदम (भाग 2)

स्टेप 2 – मैं समय के अनुसार नहीं चल पा रहा हूं; यह ठीक है – आज हमारे जीवन का हर कदम कार्यों को पूरा करने और चीजों को तेजी से और बेहतर बनाने के बारे में है। हम यह महसूस करने में फेल हो जाते हैं कि जल्दबाजी का हर विचार और उससे जुड़ी चिंता हमारे मानसिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक के साथ-साथ, हमारे शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर रही है। इसके अलावा, किसी मीटिंग के लिए, असाइनमेंट के लिए या भोजन को बनाने में या समय पर स्वयं रेडी होने में देर होना ठीक है, लेकिन जल्दबाजी करना उससे भी बुरा है क्योंकि जल्दबाजी में किए गए कार्यों के द्वारा रिलीज हुई एनर्जी वापस आपके पास ही आएगी। और इस एनर्जी को लोग महसूस कर आपके साथ असहज महसूस करेंगे। साथ ही, याद रखें कि आपके दिमाग, शरीर और रिश्तों को लंबे समय तक नुकसान पहुंचाने की तुलना में, एक छोटे समय की विफलता या पेरफोर्म न कर पाना बेहतर है। इसलिए, उन कार्यों को करें जो आपके जीवन में महत्वपूर्ण हैं, जैसे कि कार को ऑफिस तक ड्राइव करना, अपने घर के काम और ऑफिस के रेगुलर कार्यों को पूरा करना और साथ ही साथ एक बिजी सोशल लाइफ भी बिताएं, लेकिन यह सबकुछ आराम से, बिना मन को थकाए और बिना किसी जल्दबाजी के। इस तरह, आप जीवन के क्षणों का सही मायने में आनंद लेंगे, सभी लेवेल पर सफल महसूस करेंगे और डेडलाईन और लोगों की आपसे रखी हुई अपेक्षाओं से अपने आप को दबा हुआ महसूस नहीं करेंगे।

स्टेप 3 – ये पूरी दुनिया एक मंच है और हम सभी रोल निभा रहे हैंहर सुबह अपने आप से कहें कि मैं विश्व मंच पर एक अभिनेता हूं और मैं यहां जो कुछ भी करता हूं वह मेरी भूमिका है जिसे मुझे निभाना है। नाटक के मंच पर एक अभिनेता कभी भी अपनी भूमिका से अपने आपको बांधता नहीं है और न ही कभी उससे जुड़ता है। वह जानता है कि भूमिका (रोल) अस्थायी है और भूमिका निभाने के बाद, आखिर में उसे अपनी रिअलीटी में जीना है। हम देखते हैं कि तनाव के सबसे महत्वपूर्ण कारणों में से एक; ये संकल्प या विचार है – कि मैं यह भूमिका (रोल) हूँ, जोकि एक गलत जागृति है। इसके बजाय सही सोच यह है कि मैं एक आत्मा हूं, एक आध्यात्मिक चेतना हूं और ये रोल मेरा कार्य है, ये टेम्परेरी है न कि मेरा वास्तविक स्वरूप है। मेरा वास्तविक स्वरूप मैं आत्मा, गुणों और शक्तियों से भरपूर हूं। जब हमारे रोल में परिस्थितीएं  हमारे अनुसार नहीं होतीं जैसी मैं चाहता या अपेक्षा करता हूं तो जितना रोल के साथ जुडाव कम, तनाव उतना ही कम होता है; साथ ही, ये मानना की अन्य सभी भी मेरे समान रोल निभा रहे हैं तो कभी-कभी उनका अभिनय भी वैसा नहीं होगा जैसा मैं उम्मीद करता हूं, लेकिन आध्यात्मिक ज्ञान के पोजीटीव प्रभाव मुझे हल्का रखते हैं। लेकिन इसके विपरीत, यदि मैं दूसरे व्यक्ति के कर्मों को कन्ट्रोल करने की कोशिश करता हूं, तो मैं एक तनावपूर्ण मन, संबंध और वातावरण बनाता हुं| परंतु इसके बजाय मैं उस आत्मा को प्रभावित करता हूँ, उसके प्रति अच्छी भावनाएँ और शुभकामनाएँ रखता हूँ तो वह उस रोल को भी पोजिटिवीटी देता है और मुझे भी तनावमुक्त रखता है।

(कल जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए