Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

क्या एक प्रतिभाशाली बनाता है: एक्वायर्ड या निहित प्रतिभा?

जीनियस माना: प्राप्त किया हुआ या जन्मजात प्रतिभा?

कभी-कभी हम कुछ बच्चों में रचनात्मक (क्रिएटिव) या विद्वतापूर्ण (स्कॉलर) योग्यताओं को देखते हैं, जिन्हें हम बाल प्रतिभा का नाम देते हैं। वे किसी न किसी टैलेंट में माहिर होते हैं। उदाहरण के लिए; एक 4 साल का बच्चा कुशलता से पियानो पर लंबे लंबे नोट्स बजाता है, एक 7 साल का बच्चा डिफिकल्ट सॉफ्टवेयर कोड बनाता है जबकि कोई दूसरा बच्चा 5 साल की उम्र में शास्त्रों से श्लोक पढ़ लेता है। तो, उन्होंने ये सब स्किल्स कब और किससे सीखे, खासकर जब उनके परिवार में कोई भी उस विशेष स्किल में न तो ट्रेंड था नाही इंटरेस्टेड। इसके अलावा, बहुत से प्रसिद्ध कलाकार, संगीतकार, इंजीनियर, खिलाड़ी आदि अक्सर ही बहुत कम उम्र में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करते हैं, और उनमें से अधिकांश को यह टैलेंट अपने माता-पिता या परिवार से विरासत में नहीं मिलता।

इसके पीछे का आध्यात्मिक ज्ञान हमें यह बताता है कि, फिजिकल शरीर धारण करने के बाद, आत्मा द्वारा किया गया प्रत्येक कार्य, आत्मा में एक संस्कार या आदत के रूप में रजिस्टर हो जाता है। हमारा नेचर, हमारा टैलेंट और किसी विशेष स्किल के प्रति हमारे झुकाव से ही, हमारे संस्कार बनते हैं। फिर ये सभी संस्कार, अगले जन्मों में हमारी आत्मा के साथ जाकर कर्म में आते हैं। अब ये समझा जाता है कि, किसी जीनियस में वो विशेष टैलेंट, उनके द्वारा पिछले जन्मों में सीखा गया होगा, नर्चर किया गया होगा और उसमें महारत हासिल की गई होगी। फिर ये विशेष टैलेंट आत्मा पर रजिस्टर हो, उसके अगले जन्म में फॉरवर्ड हो जाते हैं। इसलिए, आत्मा इस नए जन्म में, कुछ मामलों में बचपन में ही उस टैलेंट को दोहराती है। संक्षेप में, जीनियस होना एक अनुभव है। लेकिन हम सोचते हैं कि, यह एक उपहार या टैलेंट है जबकि असल में यह कई जन्मों के गहरे और लंबे अनुभव का फल है। हममें से कुछ दूसरों की तुलना में पुरानी आत्माएं हैं क्योंकि, हमने लंबे समय तक वर्ल्ड स्टेज पर पार्ट बजाया है और इसलिए अधिक जन्मों की यात्रा को जिया है। ऐसी आत्माएं, उन अनुभवों को आगे ले जाती हैं, जो दूसरों की तुलना में कहीं अधिक गहरे और लंबे होते हैं। यह समझ माता-पिता को बच्चों में, निहित प्रतिभा को प्रोत्साहित करने में मदद करती है बजाय इसके कि, बच्चे उनकी आकांक्षाओं और अपेक्षाओं के अनुसार कैरियर चुनें। 

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

नींद को शांतिपूर्ण और आनंदमय बनाने के 5 टिप्स

नींद को शांतिपूर्ण और आनंदमय बनाने के 5 टिप्स

नींद; मनुष्य की वेल बीइंग के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है और यह हमारे शारीरिक, आध्यात्मिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को अत्यधिक प्रभावित करती

Read More »
आपका मन भी एक बच्चा है

आपका मन भी एक बच्चा है

मन हमारे बच्चे जैसा है। इसलिए जब हम अपनी जिम्मेदारियां निभाते हैं, तो भी हमारी प्रायोरिटी इस बच्चे की भलाई होनी चाहिए। हमें इसका सही

Read More »