Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

18th april soul sustenance hindi

शाकाहारी भोजन के 5 फायदे :

  1. हमारे मन को प्यूर, शांत और पोजिटीव रखता है- हमारे मन की शांति; नॉनव्हेज यानि जानवरों का मांस खाने से, जिनमें उन्हें मारे जाते वक्त जो भय, क्रोध और दर्द के वाईब्रेशन होते हैं, के कारण खो जाती है। ऐसा खाना हमारे मन को उत्तेजित और हिंसक प्रव्रिती व बदला लेने वाला बना देता है और हमारा मन अशुद्ध विचार और भावनाएँ पैदा करता है। जबकि शाकाहारी भोजन हमारे मन को बहुत प्यूर, शांत और पोजिटीविटी से भरपूर रखता है।
  2. हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करता है – शाकाहारी भोजन खाने से हमारा मन और तन दोनों स्वस्थ रहते हैं और हमारा लाईफ-स्पान भी बढ जाता है। नियमित रूप से शाकाहारी भोजन खाने से, कई तरह की गंभीर शारीरिक और मानसिक बीमारियों को रोका जा सकता है और उनके लक्षणों को भी कम किया जा सकता है, जिसका न केवल हमारे मन पर पोजिटीव और शुद्ध प्रभाव पड़ता है बल्कि हमारे शरीर के विभिन्न सिस्टम, भी सही और हेल्थी तरीके से काम करते हैं।
  3. परमात्मा के साथ; हमारे योग को और अधिक सुंदर और आनंदमय बनाता है – शुद्ध शाकाहारी भोजन आत्मिक भाव को पैदा करने में मदद करने के साथ- साथ, हमारी सोच और समझ को अधिक शक्तिशाली और क्लिअर करता हैं और हम आध्यात्मिकता के पथ पर, अपने आत्मिक स्वरूप में टिककर, सर्वोच्च परमात्मा से अपना बुद्धी योग बेहतर तरीके से लगाने में सक्षम होते हैं। और योग के दौरान भी लंबे समय तक एकाग्रता को बनाए रख सकते हैं ।
  4. रिश्तों में प्यार और हारमनी लाता है – आमतौर पर देखा और अनुभव किया जाता है कि शाकाहारी भोजन हमारे व्यक्तित्व में अत्यधिक परिवर्तन लाता है और हमारे क्रोध और अहंकार को कम करके, शरीर को आराम देने के साथ अपेक्षाओं से भी मुक्त रखता है। ये पोजिटीव चेंज आने से, हम सभी को अपने आत्मा- भाई के रूप में देख पाते हैं और हमारे सभी रिश्ते भी शांतिपूर्ण, प्रेम से भरे हुए और उतार-चढाव से मुक्त बनते हैं।
  5. हमारी रसोई को शुद्ध और परमात्मा का स्थान बनाता है – अध्यात्मिकता, हमें परमात्मा की याद में खाना पकाने और खाने से पहले, उन्हें भोग लगाकर खाने का अभ्यास सिखाती है। जब हम शाकाहार को फालो करते हैं, तो हमारी रसोई एक अत्यंत शुद्ध स्थान बन जाती है, जहाँ प्रकृति से प्राप्त और हिंसामुक्त भोजन को पकाया जाता है और परमात्मा को स्वीकार कराया जाता है।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

आपका मन भी एक बच्चा है

आपका मन भी एक बच्चा है

मन हमारे बच्चे जैसा है। इसलिए जब हम अपनी जिम्मेदारियां निभाते हैं, तो भी हमारी प्रायोरिटी इस बच्चे की भलाई होनी चाहिए। हमें इसका सही

Read More »