Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

18th march soul-sustenance - hindi

स्वास्थ्य को संतुलित रखने के 5 तरीके

एक मनुष्य के लिए संतुलित स्वस्थ जीवन मुख्यतः 5 प्रकार के स्वास्थ्य पर निर्भर करता है: शारीरिक स्वास्थ्य, मानसिक स्वास्थ्य, भावनात्मक स्वास्थ्य, सामाजिक स्वास्थ्य और आध्यात्मिक स्वास्थ्य । इन सभी का आपस में संतुलन ही हमारे जीवन को परफेक्ट बनाता है। लेकिन आज जब भी हम स्वास्थ्य के बारे में सोचते हैं, तो ज्यादातर शारीरिक तंदुरूस्ती पर ध्यान देते हैं और जैसे ही हमारे शारीरिक स्वास्थ्य में कुछ भी ऊपर-नीचे होता है जैसे कि सुस्ती आना या अस्वस्थता, हम तुरंत इसके लिए एवेयर हो जाते हैं और बाकी आध्यात्मिक, मानसिक, भावनात्मक और सामाजिक स्वास्थ्य पर बहुत कम जोर दिया जाता है। लेकिन एक संतुष्ट जीवन के लिए हमें सभी पहलुओं पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

  1. क्या आप जानते हैं कि आध्यात्मिक स्वास्थ्य अन्य सभी प्रकार के; भावनात्मक, मानसिक, सामाजिक और शारीरिक स्वास्थ्य का आधार है। इसके लिए परमात्मा से कनेक्शन जोडने और उनकी शक्तियों को स्वयं में भरने के लिए मेडीटेट करें। प्रतिदिन आध्यात्मिक ज्ञान का अध्ययन करें। अपने जीवन को नैतिक मूल्यों और सिद्धांतों के आधार पर व्यतीत करें।
  2. शारीरिक स्वास्थ्य के लिए रोजाना कम से कम 20 मिनट व्यायाम करें। अपनी जीवन शैली में खाने, पीने और सोने की सही आदतों के अनुशासन का पालन करें।
  1. भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य सही सोच पर निर्भर करता है, क्योंकि हमारी सोच ही बोल- चाल में और व्यवहार में आते हैं और हमारे भाग्य का निर्माण करते हैं। लोगों और परिस्थितियों के लिए सही सोचें भले ही वे सही न हों। एक साफ मन शरीर को स्वास्थ्य प्रदान करता है, जबकि गलत सोच से शरीर में बीमारियां होती है।
  2. सामाजिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए, किसी से कुछ भी पाने या चाहने की इच्छा ना रखें। जब भी दें; बिना किसी अपेक्षा के और अपनी क्षमता के अनुसार दें। हमेशा प्रेम, विश्वास, सम्मान और प्रसन्नता के वाईब्रेशन दें।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

जिंदगी की दौड़ में ना भागें…. प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

जिंदगी की दौड़ में ना भागें….प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

हर मनुष्य खुशियां चाहता है। हम अपने लिए खुशियों को ढूंढते रहते हैं और अपने हर एक लक्ष्य; हमारा स्वास्थ, सुंदरता, धन या अपनी भूमिकाओं

Read More »