Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

19th april soul sustenance hindi

रूटीन कर्म करते हुए, अपनी बीइंग को पहचानें (भाग 1)

इस दुनिया में, हम सभी विशेष देवदूत हैं जो एक उच्च उद्देश्य को पूरा करने आए हैं, क्या आपने कभी सोचा है कि, सुबह से रात तक रुटीन जीवन; जैसे कि सुबह उठकर रेडी होकर काम पर जाना, खाना बनाना और रात में सो जाने जैसे कामों के अलावा भी, हमारे जीवन का एक उच्च उद्देश्य भी है। उदाहरण के लिए: हमारे घर का एयर- कंडीशनर, जो कि एक मशीन है। जब हम इसे ओन करते हैं तो यह चलता है और जब हम इसे ऑफ करते हैं तो बंद हो जाता है। तो जब यह ओन नहीं है, तो क्या यह कुछ और कर सकता है, नहीं- आईडल रहता है। क्या इसका कोई उच्च उद्देश्य है? नहीं, फिर एक दिन जब ये हमारे काम नहीं आता तो, हम उसे अपने घर से निकाल देते हैं। इसलिये हमें ये याद रखना होगा कि, हम सब केवल कर्म करने वाले शरीर होने के अलावा एक बीइंग भी हैं। सभी मनुष्य, बिना किसी उच्च उद्देश्य के, सुबह से रात तक, अलग-अलग काम करते रहते हैं। हम सबको ये जानने की जरुरत है कि मनुष्य-जीवन का एक उच्च उद्देश्य है – जीवन के लिए आवश्यक कार्यों को करते समय, आत्मा की देखभाल करना। तो आइए, आज से मशीनों की तरह कर्म न करें। जब हम अपने ऑफिस या कार्यस्थल पर जाते हैं या फिर अपने घर और परिवार की देखभाल करते हैं और अपने दोस्तों के साथ बातचीत करते हैं, तो बीच-बीच में सोचें और अवेअर रहें कि, एक दिन जब हम इस शरीर को छोडेगे और अपने साथ कुछ भी नहीं ले जा पाएंगे। तो, जब ये बाहरी पोशाक या शरीर नहीं होगा, तब हमारी लाईफ की सभी महत्वपूर्ण चीजें- वेल्थ,  जॉब की उपलब्धियां, हमारे सुंदर रिश्ते-नाते, शारीरिक सुंदरता और बाहरी व्यक्तित्व, कुछ भी हमारे साथ नहीं जायेंगे।

तो, हर एक मिनट में, एक क्षण के लिए रुकें और अपने इनर वर्ल्ड को देखें। मैं अपने बेटे या बेटी या पति या पत्नी से प्यार करता हूं, लेकिन एक दिन जब मैं इस शरीर को छोडूगा, तब वे मेरे साथ नहीं होंगे। मेरे जीवन का उद्देश्य उनकी देखभाल करना हो सकता है। लेकिन मेरा उच्च उद्देश्य; मेरे इनर वर्ल्ड, मेरे संस्कारों, मेरे आत्मिक अस्तित्व की देखभाल करना है, जिसे मैं अपने साथ आगे लेकर जाऊंगा। इसलिए हर सुबह एक अफरमेशन करें – मैं पूरे दिन अपने अंतर्मन (sub consciousness) को बेहतर बनाने की कोशिश करुंगा और हर मिलने वाले को खुशियां दूंगा। मैं अपने कार्यक्षेत्र में बेस्ट देता हूं, लेकिन अपने कर्मों पर भी नजर रखता हूं, जिससे मुझे सभी से दुआएं और आशीर्वाद मिलती हैं। साथ ही, मैं हर किसी के लिए ऐसा दर्पण बनना चाहता हूं, जिसमें लोगों को पोजिटीविटी दिखे और वे बेहतर इंसान बनने के लिए मोटीवेट हों। क्यों? क्योंकि आप खास हैं, आत्मिक गुणों से भरे खास इंसान हैं नाहि केवल दुनियावी कर्म करते हुए, कोई साधारण इंसान!

(कल जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

सफलता के लिए एक आदर्श व्यक्तित्व का निर्माण करें (भाग 1)

सफलता के लिए एक आदर्श व्यक्तित्व का निर्माण करें (भाग 1)

अनेक प्रकार की परिस्थितियों से भरा जीवन जीना और अलग-अलग तरीके के लोगों से मिलना; अपने साथ कुछ चैलेंजेस और स्वयं के व्यक्तित्व को बदलने

Read More »
नींद को शांतिपूर्ण और आनंदमय बनाने के 5 टिप्स

नींद को शांतिपूर्ण और आनंदमय बनाने के 5 टिप्स

नींद; मनुष्य की वेल बीइंग के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है और यह हमारे शारीरिक, आध्यात्मिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को अत्यधिक प्रभावित करती

Read More »