मेडीटेशन के द्वारा आत्मिक शक्ति (सोल पावर) को बढ़ाना

मेडीटेशन के द्वारा आत्मिक शक्ति (सोल पावर) को बढ़ाना

मेडीटेशन के सबसे महत्वपूर्ण लाभों में; एक है अपनी आत्मिक शक्ति को बढ़ाकर, नेगेटिव और कमजोर विचारों से मुक्त होना। परमपिता परमात्मा एक स्पिरिचुअल एनर्जी के रूप में मौजूद सबसे शक्तिशाली आत्मा है जिन्हें सर्वशक्तिमान (आलमाईटी अथारिटी) कहा जाता है। मेडीटेशन के द्वारा हम परमात्मा से जुड़कर, उनकी शक्तियों को अपने अंदर समाहित करते हैं। तो आइए, नीचे बताए गये तरीकों को जानें, जिनके द्वारा आत्मिक शक्ति को बढ़ा सकते हैं –

    1. परमात्मा को एक सर्वोच्च शक्ति के रूप में देखें और उनसे जुड़ें – सबसे पहले मेडीटेशन में, स्वयं को एक चमकता हुआ सितारा, मस्तक के बीचो- बीच आत्मा के रूप में अनुभव करें जो शांति, प्रेम और आनंद से भरपूर है। इस शुद्ध भावना को अनुभव करते हुए, आत्माओं की सुंदर दुनिया- जो भौतिक ब्रह्मांड से परे मौजूद है, में एक प्रकाश या ज्योतिपुंज के रूप में यात्रा करते हैं, और आध्यात्मिक प्रकाश और शक्ति के सर्वोच्च बिंदू- परमपिता परमात्मा के साथ एक गहरे संबंध की अनुभूति करते हैं जिससे हमारी आत्मा अपार शक्ति से भर जाती है।
    2. प्रतिदिन परमात्मा से बातचीत करें और स्वयं में शक्तियां भरें – परमात्मा प्रेम और धैर्य का सागर है और मेडीटेशन में उनसे जुड़ने पर वह हमें सुनते है और हम उनसे बात करके स्वयं को दृढ़ संकल्प से भर सकते हैं, और बिना किसी डर और अधीरता के जीवन की कठिन परिस्थितियों का सामना कर सकते हैं।
    3. हर कर्म करते परमात्मा के साथ का अनुभव करें और दृढ़ता की शक्ति से आगे बढ़ें – जब हम कोई भी कर्म अपनी आत्मिक शक्ति के अनुसार करते हैं तो हमारे पास लिमिटेड शक्ति होती है। लेकिन, जब हम अपने हर कार्य में परमात्मा के साथ का अनुभव करते हैं, तो हमारी शक्तियां बढ़ जाती है क्योंकि उनकी अपार शक्तियां उस कर्म को गाईड करती है। और हर दिन ऐसा करने से हम मजबूत और अधिक फ्लेक्सिबल बनते हैं।
    4. हर दिन की शुरुआत परमात्मा के ज्ञान और अच्छाईयों को आत्मसात करके करें – दिन की शुरुआत करने का सबसे अच्छा तरीका है- परमात्मा की याद में, उनके द्वारा उच्चारे गये महावाक्यों को सुनना। ऐसा करते हुए, जब हम अपने मन और बुद्धि को उनके सुवचनों से भरपूर करते हैं, तो हम अपनी आत्मा की शक्ति को भी बढ़ाते हैं और परमातम- ज्ञान द्वारा प्राप्त इन शक्तियों को अपने आस- पास मौजूद अपने परिवार के सदस्यों, दोस्तों और ऑफिस के सहकर्मियों के साथ बात-चीत करते हुए उन तक पहुँचाते हैं।
    5. अपने घर और कार्यस्थल के वातावरण को परमात्मा के प्रेम और शक्ति से भर दें – आत्मिक शक्ति को बढ़ाने का एक महत्वपूर्ण तरीका है; उस शक्ति को सबके साथ बांटना और सभी को परमात्मा की प्यार भारी यादों से जोडना। इसलिए, हमें अपने सभी मिलने-जुलने वाले लोगों को मेडीटेशन के प्रति रुचि पैदा करने का प्रयास करते रहना चाहिए।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए