Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

EN

20th april soul sustenance hindi

रूटीन कर्म करते हुए, अपनी बीइंग को पहचानें (भाग 2)

जब भी दिन की शुरुआत करें, अपने आस-पास की हर चीज और हर किसी को देखें और गहराई से महसूस करें, कि मेरी एडूकेशन, मेरी प्रोफेशनल योग्यता, मेरी वेल्थ और मेरा रोल – देखा जाए, तो वास्तव में यह कुछ भी मेरा नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वास्तव में, आप नॉन- फीजिकल बीइंग हैं जो अंदर से शांति, प्रेम और खुशी जैसे गुणों से भरे हैं। और, दुनिया की सब फीजिकल वस्तुओं का विस्तार, लोग, करीबी रिश्ते और बाकी सब कुछ, यहाँ तक कि आपका फीजिकल शरीर – यह सब, आपने इस फीजिकल (भौतिक) दुनिया में हासिल किया है। हमारे अंदर नॉन-फीजिकल (आत्मा) फीजिकल (शरीर) को नियंत्रित करके चलाती है। आत्मा शाश्वत है और शरीर इस जीवनकाल तक ही सीमित है।

खुशी वह गुण है जिसकी हम सब को जरुरत है। साथ ही, हम अपने जीवन में शांति और प्रेम भी खोजते हैं। लेकिन अगर हमारी मन-बुद्धी, फीजिकल दुनिया तक ही सीमित है, तो इन तीनों भावनाओं/ गुणों को आप हमेशा अनुभव नहीं कर पाएंगे, वे कुछ समय के लिए आएंगे और जाएंगे। इसका कारण है कि, प्रत्येक फीजिकल वस्तु, अस्थाई और परिवर्तनशील है। एक दिन आपके रिश्ते अच्छे होते हैं और दूसरे दिन आप सहयोग की कमी महसूस करते हुए कम प्यार महसूस करते हैं। कभी-कभी कार्यस्थल पर सब कुछ सुचारू रूप से चल रहा होता है और कहीं अधूरे कार्यों और समय- सीमा का दबाव होता है जिससे आप अशांत महसूस करते हैं। साथ ही, कई बार आपका शरीर स्वस्थ और अच्छी तरह से चल रहा होता है और अचानक कोई बीमारी पैदा हो जाती है, और आप अपनी आंतरिक संतुष्टि और स्वस्थता की भावना खो देते हैं। तो, हमारा जीवन ट्विस्ट और टर्न से भरा हुआ है। और जब आपकी चेतना (बीइंग), आपके इनर वर्ल्ड पर केंद्रित होती है, तो आप हर समय शांत, प्रेमपूर्ण और खुश रहते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि, आपकी शांति, प्रेम और खुशी की नींव स्थायी और कभी न बदलने वाली है। साथ ही अपने शाश्वत और आंतरिक स्व (आत्मिक स्वरूप) में रहने से, आप बाहर की परिस्थितियों से प्रभावित नहीं होंगे। क्योंकि आप शांति, प्रेम और खुशी के स्रोत हैं और जीवन में आने-जाने वाली हर परिस्थिती में इन गुणों को भरकर, आप स्टेब्ल रहेंगे। और अब आप शांति, प्रेम और खुशी से भरे रहने के लिए, परिस्थितियों पर निर्भर नहीं करते हैं।

(कल जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए