Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

24th april soul sustenance hindi

लोगों की अपेक्षाओं को पूरा करना

कभी-कभी जब हम लोगों की अपेक्षाओं पर खरा नहीं उतरते, तो स्वयं को बोझिल महसूस करते हैं। हमारे जीवन में हमारे माता-पिता, शिक्षकों, दोस्तों, जीवनसाथी, कार्यालय के सहयोगियों, बच्चों और कई अन्य लोग हमसे अपेक्षाएँ रखते हैं। वे उसके अंतर्गत, हमारी पसंद और निर्णयों को भी कंट्रोल करने लगते हैं। हममें से बहुत लोग, दूसरो की उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश करते हैं, लेकिन ज्यादातर पूरी तरह सफल नहीं हो पाते हैं। हम हर समय हर किसी को खुश नहीं रख सकते, इसलिए उनकी जरूरतों को पूरा करने की कोशिश करना हमें थका सकता है। आईये इसके विषय में बारीकी से समझें-

  1. हमारे अपनों द्वारा हमसे रखी गई उम्मीदें, हमारे अंदर एक मेंटल प्रेशर पैदा करती हैं और उन्हें खुश न कर पाने के डर से हमारी कार्यक्षमता भी प्रभावित होती है। तो इसके लिए जरुरी है कि, एक लक्ष्य निर्धारित करें, उसके अनुसार योजना बनाकर उसे कर्म में लाएं, उसे अचीव करने के साथ-साथ सफलता का आनंद लें, और ये सब कुछ आपकी क्षमता, जीवन में आपकी प्राथमिकता (प्राईओरीटीज) और सिद्धांतों पर आधारित होना चाहिए।
  2. हर रिश्ते की निस्वार्थ भाव से देखभाल करते हुए अपना सर्वश्रेष्ठ रोल निभाएं। उसके बाद, यह चिंता न करें कि क्या आप दूसरों की उम्मीदों पर खरे उतरते हैं, क्या आपको स्वीकार किया जाता है या क्या आपको एक मुकम्मल इंसान माना जाता है। अपने लिए स्पष्ट सीमाएँ निर्धारित करें और साथ ही दूसरों को भी इसके बारे में बताएँ।
  3. स्वयं से प्यार करें और दूसरों को भी प्यार दें। लेकिन यदि आप अपने सामर्थ्य से बाहर, दूसरों की उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश करते हुए जीवन जीते हैं, तो आप खुश नहीं रह सकते। आपकी अप्रसन्नता, आपसे संबंधित लोगों में भी दर्द और बेचैनी के वाईब्रेशन रेडीएट कर, आपके रिश्तों को कमजोर करेंगे, जिनकी अपेक्षाओं को आप पूरा करने की कोशिश में लगे हुए हैं।
  4. ऐसा कुछ करने के लिए सहमत न हों, जो आप नहीं करना चाहते। विनम्रतापूर्वक और दृढ़ता से मना करें और इसके बाद स्वयं को दोषी महसूस न करें। लोग आपको, आपके सिद्धांतों के साथ वैसे ही स्वीकार करेंगे, जैसे आप हैं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए