Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

ब्रह्माकुमारिज़ का 7 डेज कोर्स (भाग 5)

ब्रह्मा कुमारिज़ का 7 डेज कोर्स (भाग 5)

ब्रह्मा कुमारिज़ का 7 डेज कोर्स; भारत के विभिन्न शहरों, कस्बों और गांवों में सभी ब्रह्मा कुमारिज़ सेंटर और दुनिया भर के 120 से अधिक देशों के सेंटर पर आयोजित किया जाता है। यह व्यक्तिगत रूप (individually) से या फिर छोटे-छोटे ग्रुप में सेंटर पर आयोजित किया जाता है। इस कोर्स की ड्यूरेशन 7 दिनों के लिए, प्रतिदिन एक घंटे की होती है और आप जिस भी सेंटर पर कॉन्टेक्ट करते हैं, उसके इन्चार्ज से संपर्क करके कोर्स करने का दिन और समय निश्चित किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त, कुछ स्थानों पर; जैसे कि ब्रह्मा कुमारिज़ के मुख्यालय, जोकि माउंट आबू, राजस्थान, भारत में अरावली पहाड़ियों में स्थित है, और भारत के कुछ शहरों में और विदेशों में ब्रह्मा कुमारिज़ के रिट्रीट सेंटर पर 2 से 4 दिन के लिए; जब हमारे स्पिरिचुअल बी. के. भाई-बहन उन परिसरों में जाकर 2-4 दिनों के ड्यूरेशन में कोर्स कराते हैं, तब यह कोर्स बड़े- बड़े ग्रुप के लिए भी आयोजित किया जाता है। माउंट आबू में या फिर ब्रह्मा कुमारिज़ रिट्रीट सेंटरों में हर दिन एक से अधिक कोर्स के सेशन होते हैं, जबकि दुनिया के विभिन्न स्थानों पर स्थित ब्रह्मा कुमारिज़ सेंटर पर, सामान्य रूप से 7 दिनों तक प्रायः एक ही सेशन चलता है।

ब्रह्मा कुमारिज़ का 7 डेज कोर्स में, सामान्य रूप से 7 सेशन होते हैं, जोकि इस प्रकार हैं –

 

  1. आत्मा या आध्यात्मिक स्व (बीइंग) को समझना
  2. सुप्रीम सोल- परमात्मा को जानना और समझना
  3. वर्ल्ड ड्रामा में परमात्मा का कार्य क्या है और वह वर्तमान समय में दुनिया को कैसे बदलकर, एक नई दुनिया की स्थापना करते हैं?
  4. वर्ल्ड ड्रामा या फिर 5000 वर्ष का वर्ल्ड साइकिल क्या है और यह कैसे रिपीट होता है?
  5. यहाँ वर्ल्ड ड्रामा को एक सीढ़ी के माध्यम से समझाया जाता है, जिसमें हर स्टेप हमारे द्वारा लिए गए 1-1 जन्म को रिप्रेजेंट करता है
  6. मानव संसार के वृक्ष को और वृक्ष के बीज माना परमपिता परमात्मा को समझना
  7. राजयोग मेडिटेशन के द्वारा परमात्मा से जुड़ने की तकनीक सीखना

(कल जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

जिंदगी की दौड़ में ना भागें…. प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

जिंदगी की दौड़ में ना भागें….प्रेजेंट मोमेंट को एंजॉय करें (भाग 1)

हर मनुष्य खुशियां चाहता है। हम अपने लिए खुशियों को ढूंढते रहते हैं और अपने हर एक लक्ष्य; हमारा स्वास्थ, सुंदरता, धन या अपनी भूमिकाओं

Read More »