Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

27th march soul sustenance hindi

संतुष्टता का गहना पहनो (भाग 1)

हमारे जीवन में सबसे महत्वपूर्ण गहना “संतोष और आंतरिक आनंद” से भरे जीवन को जीना है। हम सभी हमेशा इन दो भावनाओं के अनुभव में जीवन जीना चाहते हैं। हालाँकि, ये दोनों भावनाएँ हमारे अपने अंदर ही होती हैं, लेकिन जीवन में आने वाली अलग-अलग परिस्थितियाँ, कभी-कभी हमारी स्थिरता और आंतरिक शक्ति को कमजोर कर देती हैं और हम भरपूरता और खुशी की आंतरिक भावना को खो देते हैं या महसूस नहीं कर पाते हैं। साथ ही, मैं जीवन का पूरा आनंद ले रहा हूं और मुझे किसी से कुछ नहीं चाहिए, उस पोजिटीव फीलिंग को भी नजरअंदाज कर देते हैं| यह भावना कि मेरा जीवन भरपूर है, मुझे किसी से और किसी भी वस्तु के लिए कोई शिकायत नहीं है, मेरे पास जो कुछ भी है उसके लिए मैं बहुत आभारी हूं। हमेशा उस जीवन का धन्यवाद करें, जिसने आपको सब कुछ दिया है, और जब जीवन में आने वाली परिस्थितियाँ हमारी अपेक्षाओं से थोड़ी अलग भी हों, तो भी चिंता न करें।

और यह भी हमेशा याद रखें, कि आंतरिक संतुष्टि आत्मा की शक्तियों से आती है जब मन में भी अनावश्यक विचार और नेगेटीव भावनाएं नहीं होती हैं। जब भी कभी हमारे अंदर आठ शक्तियों; सहने की शक्ति, समाने की शक्ति, सामना करने की शक्ति, समेटने की शक्ति, परखने की शक्ति, निर्णय करने की शक्ति, अंतर्मुखता की शक्ति और सहयोग करने की शक्ति, में से कोई एक भी कम होने से हमारे अंदर संतोष और खुशी की भावना भी कम रहेगी। इसके अलावा, यदि किसी विशेष विचार पैटर्न के कारण कोई मानसिक कमजोरी हमारे अंदर है या किसी विशेष गहरे संस्कार या व्यक्तित्व लक्षण के कारण होने वाली कमजोरी की वजह से, मन नेगेटीव परिस्थितियों से बहुत अधिक जुड़ जाता है। साथ ही यह संबंधित एनर्जी भी देता रहता है जिससे मन अशांत होकर क्लेरीटी और फोकस को खो देता है और इससे हमारे भीतर असंतोष पैदा होता है।

(कल जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाई की अपनी ओरिजिनल स्टेट यानि कि वास्त्विक्ता में लौटने के लिए, हमें आध्यात्मिक शक्तियों और सकारात्मकता के एक हाई सौर्स यानि कि परमात्मा से

Read More »