Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

जीवन में कृतज्ञता भरे पलों को डायरी में लिखने का अभ्यास

जीवन में कृतज्ञता भरे पलों को डायरी में लिखने का अभ्यास

हम सभी अपने जीवन में सुंदर प्राप्तियों से सदैव ब्लेस्ड फील करते हैं। हम इन सभी प्राप्तियों से  सदा खुश होते हैं, यूनिवर्स को थैंक्स करते हैं और उन लोगों को भी थैंक्स करते हैं जो हमारे साथ हैं और जिनकी वजह से हम ब्लेस्ड फील करते हैं। साथ ही साथ, हम परमपिता परमात्मा को भी याद करते हैं क्योंकि उनकी मदद से ही हम इन प्रतियों को महसूस कर पाते हैं। प्राप्तियां; हमारे जीवन के छोटे-छोटे माइलस्टोन हो सकते हैं, या छोटी-छोटी सुंदर बातें, जो हमारे जीवन के स्वयं ही प्राप्त होती हैं या फिर कुछ प्रयासों के द्वारा। यह प्राप्तियां फिजिकल या नान फिजिकल भी हो सकते हैं। हम एक छोटी सी ग्रेटीट्यूड डायरी अपने पास रख सकते हैं, जिसमें हर दिन हमारे जीवन में घटने वाली सुंदर बातों के बारे में 3 से 4 लाइन नोट कर सकते हैं कि, आज दिन भर हमारे साथ क्या अच्छा हुआ जिसने हमें खुशी दी और हम ऐसी चीजें भी हम लिख सकते हैं जो हमें परमात्मा या फिर किसी मनुष्य के द्वारा प्राप्त हुई या फिर नेचर ने किसी सिचुएशन में हमारा साथ दिया।

इसके अलावा, समय समय पर हमें अपनी ग्रेटीट्यूड डायरी को पलटकर पढ़ना चाहिए कि हमनें  1 महीने पहले, 1 साल पहले या कुछ सालों पहले, क्या शेयरिंग की थी, तो हम जान पाएंगे कि हमारे लाइफ में क्या क्या अच्छी चीजें थी और उनको याद करके, जो हमारे पास है उसके लिए खुश होंगे और जो नहीं है उसके लिए कभी नाखुश नहीं होंगे। हमारे जीवन में कभी कभी डिफिकल्ट और नेगेटिव सिचुएशंस आती हैं जिनकी वजह से हम डिफरेंट और दुखी फील करते हैं, लेकिन ऐसे समय पर यदि हम अपनी यह डायरी पढ़ते हैं, तो वह हमें याद दिलाएगी कि हम कितने भाग्यवान हैं और साथ ही हम यह दिल से महसूस कर पाएंगे कि, हमारा जीवन खुशियों से भरपूर है हमारे रिश्ते बहुत सुंदर हैं, जीवन की हर स्थिति सुंदर है। तो हम समझ पाएंगे कि, अगर नेगेटिव ब्यूटीफुल हो सकता है, लाभकारी हो सकता है तो फिर जिंदगी में आने वाला हर पल सुंदर है। और सबसे महत्वपूर्ण बात ; परमपिता परमात्मा जो सबसे ज्यादा प्यारा है, सबसे ज्यादा सुंदर है, क्योंकि वह अच्छाइयों से भरपूर है, देखभाल करने वाला है और हर पल सभी के प्रति दयालु है।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

आपका मन भी एक बच्चा है

आपका मन भी एक बच्चा है

मन हमारे बच्चे जैसा है। इसलिए जब हम अपनी जिम्मेदारियां निभाते हैं, तो भी हमारी प्रायोरिटी इस बच्चे की भलाई होनी चाहिए। हमें इसका सही

Read More »