Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

EN

अपने सपनों को हकीकत में बदलना (भाग 2)

October 22, 2023

अपने सपनों को हकीकत में बदलना (भाग 2)

कल के संदेश को जारी रखते हुए, हमारे लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि, हम किस चीज की परवाह करते हैं और जीवन में क्या बनाना चाहते हैं। यह हमारे दिमाग में बिना किसी डाउट के एकदम स्पष्ट होना चाहिए कि, यदि हम मानसिक रूप से मजबूत बनना चाहते हैं, तो हमें इस बात की जिम्मेदारी भी लेनी होगी कि, हम क्या चाहते हैं और क्या नहीं, और उसके अनुसार ही चुनाव करना होगा। ठीक उसी तरह जैसे एक फूल अपनी सुंदरता की तैयारी में अपने रंगों का चयन बहुत सावधानी से करता है,  वह एक-एक करके अपनी पंखुड़ियों को सजाता है और अपने संपूर्ण सुंदर स्वरूप में ही दिखना चाहता है। और फिर एक सुबह, ठीक सूर्योदय के समय, वह अचानक स्वयं को प्रकट करता है। ठीक उसी तरह, हमारी आंतरिक स्तर पर की गई मानसिक तैयारी; हमारे लिए सुंदर बाहरी वास्तविकताओं का निर्माण करेगी। और साथ ही हमें अपने सपने पर दृढ़ विश्वास करना भी ज़रूरी है, दूसरों को स्वीकार करना, उनके साथ तालमेल बिठाना और साथ-साथ अपने आंतरिक आध्यात्मिक व्यक्तित्व को सुधारना और सशक्त बनाना भी महत्वपूर्ण है। अन्यथा, हम अपने सपने को पूरा करने की यात्रा में किसी समय खुद को थका हुआ और अकेला पा सकते हैं। इसलिए, विनम्रता के साथ सच्चाई, निर्भयता और दूसरों को बिना शर्त स्वीकार करना और उनके साथ एकजुट रहना भी महत्वपूर्ण है।

मनुष्य आत्मा में अपने सपनो पर फ़ोकस करने की अपार क्षमता है। और साथ ही वर्ल्ड ड्रामा भी यह दिखाता है कि, हमारी सकारात्मकता और आंतरिक शक्ति के आधार पर क्या संभव है और क्या नहीं और परमात्मा भी हर कदम पर हमारे साथ हैं। बस हमें अपने रियल स्वरूप में टिककर, अपने सपनों के लिए प्रयास करना होगा। साथ ही हमें कभी भी पास्ट के अनुभवों के आधार पर तय नहीं करना चाहिए कि, कल क्या हो सकता है और क्या नहीं हो सकता। स्पिरिचुएलिटी वा आध्यात्मिकता; स्वयं को शारीरिक चेतना (बॉडी कांशियसनेस) से आध्यात्मिक या आत्मिक चेतना (सोल कॉन्शियनेस) में परिवर्तित करने के बारे में है; और यह परमात्मा को खोजने के बारे में नहीं, बल्कि उनसे लगातार जुड़े रहकर, उन्हें गहराई से जानने, समझने के अनुसार देवत्व को अपने स्वरूप में लाने की यात्रा है। यदि हम इस तरह से अपने जीवन में; आध्यात्मिकता की यात्रा का अनुभव करते हैं, महसूस करते हैं कि, सारी सकारात्मकता का सोर्स हमारे ही अंदर है, तो यह एक शक्ति का रूप लेकर, हमारे “विचारों और सपनों” की वास्तविकता का निर्माण करेगा।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए