Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

अपने सपनों को हकीकत में बदलना (भाग 1)

October 21, 2023

अपने सपनों को हकीकत में बदलना (भाग 1)

हमारे सपने, जीवन में छोटी या बड़ी आकांक्षाएं; एक छोटे बीज के समान हैं, जो बाहरी दुनिया के लिए अदृश्य हैं और ये अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग हो सकते हैं, लेकिन केवल हम ही अपने सपनों को सही से जानते हैं। जैसे कि, एक बीज धरती के अंदर चुपचाप पड़ा रहता है, जब तक कि, उसमें स्वयं जागने की इच्छा न हो, फिर यह छोटा सा बीज पनपना शुरू करता है और धीरे-धीरे एक छोटी सी शाखा सूर्य की रोशनी की ओर बढ़ती है। उसी तरह, इस दुनिया में आज जो कुछ भी मौजूद है, वह सब सबसे पहले हमारे दिमाग में ही क्रिएट हुआ था। इसलिए अपने मन के इनर वर्ल्ड में विचारों को बहुत ध्यान से और सही ढंग से क्रिएट करना बहुत महत्वपूर्ण है। अन्यथा, बाहरी दुनिया में जो भी कुछ होता है, वह कभी-कभी हमारी अपेक्षा या इच्छा और फिर हमारे सपने से बहुत अलग होता है।

एक व्यवस्थित मन (ऑर्गेनाइज्ड माइंड) अनावश्यक बदलावों से दूर, सकारात्मक और शुद्ध विचारों से भरपूर होता है। ऐसा मन ही हमारी सभी शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक ऊर्जाओ को एक डायरेक्शन में व्यवस्थित कर सकता है। और इन तीनों का अलाइनमेंट; हमारे द्वारा देखे और हासिल किए जाने वाले सपनों के डायरेक्शन में ही फोकस्ड होना चाहिए। इसके साथ ही परमात्मा पर विश्वास होना भी बहुत जरूरी है। यदि हमारे मन में कुछ हासिल करने की तीव्र इच्छा है, लेकिन हम इसे हासिल करने के दौरान आने वाली कठिनाइयों के बारे में भी सोचते हैं, तो भी यह इच्छा पूरी होने में बाधा पड़ सकती है और साथ ही ये हमारे मन में इनर कॉन्फ्लिक्ट पैदा करती है। हमारे सपनों से जुड़ा, एक सकारात्मक विचार; एक शक्तिशाली वायब्रेशन है और परमात्मा के ऊपर अटूट विश्वास और दृढ़ संकल्प उस दौरान होने वाली चिंता और भय के नकारात्मक और अनावश्यक विचारों को कम करने का एक साधन है, जो जीवन के प्रोफेशनल या फिर पर्सनल क्षेत्र में, सोशल, इमोशनल या स्पिरिचुअल क्षेत्र में कुछ हासिल करने की कोशिश के दौरान क्रिएट होते हैं। सकारात्मक विचारों की यही शक्ति सफलता की कुंजी है।

(कल भी जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाई की अपनी ओरिजिनल स्टेट यानि कि वास्त्विक्ता में लौटने के लिए, हमें आध्यात्मिक शक्तियों और सकारात्मकता के एक हाई सौर्स यानि कि परमात्मा से

Read More »
अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

व्यक्तित्व स्तर पर, अच्छाईयां हमारा ओरिजिनल नेचर है जबकि बनावटी या नकारात्मक व्यक्तित्व विशेषताएँ हम एक्वायर करते हैं। एक व्यक्ति जो जीवन भर अच्छे कर्म

Read More »