Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

भूमिका निभाते हुए अपने रियल स्वरूप का अनुभव करें

October 8, 2023

भूमिका निभाते हुए अपने रियल स्वरूप का अनुभव करें

आज हम ऐसे समय में जी रहे हैं जहां जीवन में कई प्रकार की भूमिकाएं निभाते हुए; तनाव जैसी असहज भावना को हममें से कई लोग स्वाभाविक या सामान्य मानकर स्वीकार कर रहे हैं। यहां बहुत ही आसानी से; एक स्टूडेंट परीक्षा और उसके परिणामों के बारे में तनाव पैदा कर लेता है, एक सर्विस करने वाला व्यक्ति अपने करियर से जुड़े लक्ष्य, उनके मैनेजमेंट और अपने परिवार के पालन पोषण के बारे में चिंतित हो जाता है, और एक रिटायर्ड व्यक्ति अपने स्वास्थ्य और फाइनेंस के बारे में सोचकर चिंतित रहता है। क्या आप जानते हैं कि, तनाव हमारे द्वारा क्रिएट किए गए गलत विचारों का ही परिणाम है। मान लीजिए कि, मैं एक कर्मचारी हूं जिसे पता है कि, अगर मैं ईमानदारी से अपना कार्य करता रहूं, तो मैनेजर के रूप में पदोन्नत होने में मुझे दो साल का समय लगेगा, लेकिन मेरे स्वयं के द्वारा ही स्वयं के प्रति किए गए विचार मुझमें एंजाइटी क्रिएट कर देते हैं जैसे कि – मुझे निश्चित रूप से इस प्रमोशन की आवश्यकता है, लेकिन क्या ऐसा हो पाएगा… और अगर ऐसा नहीं हुआ तो क्या होगा? इसलिए मैं न केवल आज बल्कि अगले दो वर्षों तक बेचैन और चिंतित रहता हूँ। और अगर किसी दिन मुझे लगे कि, किसी भी कारण से मेरा प्रमोशन नहीं हो सकता, तो मैं इसे पाने के लिए गलत तरीके भी अपना सकता हूं। इस तरह मैं अपने आज के स्ट्रेस लेवल में चिंता, नकारात्मकता और अपराधबोध की परतें भी जोड़ देता हूं। ऐसे में अगर मुझे प्रमोशन मिल भी जाए, तो क्या मैं मैनेजर की भूमिका अच्छे से निभा पाऊंगा? लेकिन अब मैं शायद ऐसा नहीं कर पाऊं क्योंकि, अब तक मैं अपने शांति और खुशी के रियल स्वभाव को भूल चुका हूं। मैं बड़े लेवल की जिम्मेदारियाँ संभालने को लेकर तनाव महसूस करता हूँ। मेरी कार्यक्षमता कम हो जाती है और मैं कमजोर पड़ जाता हूँ। इस तरह से मैं उस भूमिका के साथ न्याय नहीं कर सकता जिसका मैं इतने लंबे समय से इंतजार कर रहा था।

इसलिए, किसी भी भूमिका को निभाते हुए हमारी पहली जिम्मेदारी होती है अपनी इनर पॉवर को बढ़ाकर अपने मन की स्थिति को संभालना। यह हमें सफलता या असफलता में स्थिर रहने की शक्ति देता है। ऊपर बताए गए उदाहरण में तनाव; उस व्यक्ति की चिंता, भय और नैतिकता से समझौता करने के अपराधबोध का परिणाम है। उसने खुद को मैनेजर बनने की भूमिका से जोड़ लिया था। उसका मानना था कि, यह उसकी खुशी और सफलता के लिए महत्वपूर्ण है। लेकिन क्या वास्तव में यह सोच कि, मैं मैनेजर हूं, ये ठीक है या फिर मेरा स्व कुछ और है? तनाव का एक महत्वपूर्ण कारण हमारा भ्रम या इल्यूजन है जिसमे हम भूमिका से अपनी पहचान बना लेते हैं और जब हम अपने रियल आत्मिक स्वरूप के बजाय, शरीर को अपना वास्तविक स्वरूप मानकर, अपनी भूमिकाओं, उपलब्धियों और धन संपत्ति के आधार पर अपनी पहचान करते हैं, जोकि हमारी बाहरी पहचान है। इस वर्ल्ड ड्रामा में हम सब एक्टर हैं और अपने जीवन में कई भूमिकाएँ निभाते हैं। तो आइए, निभाई जाने वाली भूमिकाओं से अपनी  पहचान न करें और अपने इनर सेल्फ के सुंदर गुणों को न भूलें। सही अवेयरनेस है कि, मैं अलग अलग भूमिकाएँ निभाने वाला, एक सुंदर और गुणों से भरपूर बीइंग हूँ। मेरे रोल टेंपरेरी हैं लेकिन मेरा इनर सेल्फ शाश्वत है। और यही समझ भूमिका निभाते समय; हमारे तनाव को कम करती है और प्रत्येक भूमिका निभाते हुए अपने इनर वेल्यूज – शांति, प्रेम और आनंद पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति देती है।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

सफलता के लिए एक आदर्श व्यक्तित्व का निर्माण करें (भाग 1)

सफलता के लिए एक आदर्श व्यक्तित्व का निर्माण करें (भाग 1)

अनेक प्रकार की परिस्थितियों से भरा जीवन जीना और अलग-अलग तरीके के लोगों से मिलना; अपने साथ कुछ चैलेंजेस और स्वयं के व्यक्तित्व को बदलने

Read More »
नींद को शांतिपूर्ण और आनंदमय बनाने के 5 टिप्स

नींद को शांतिपूर्ण और आनंदमय बनाने के 5 टिप्स

नींद; मनुष्य की वेल बीइंग के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है और यह हमारे शारीरिक, आध्यात्मिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को अत्यधिक प्रभावित करती

Read More »