Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

दशहरे पर्व का दिव्य अर्थ (भाग 1)

October 23, 2023

दशहरे पर्व का दिव्य अर्थ (भाग 1)

बुराई पर सच्चाई की जीत

“अधर्म पर धर्म की जीत और बुराई पर सच्चाई की जीत” का जश्न मनाने वाले पर्व दशहरे या विजयादशमी (इस वर्ष 24 अक्टूबर) की कई दिलचस्प और मशहूर पौराणिक कहानियां दुनिया भर में मौजूद हैं। इन कहानियों का गहरा आध्यात्मिक अर्थ और महत्व है।

ब्रह्माकुमारीज़ संस्था में परमात्मा द्वारा दिए गए आध्यात्मिक ज्ञान के अनुसार; आत्मा का रियल स्वरूप; एक चमकता सितारा, एनर्जी है; जो शांति, पवित्रता और आनंद जैसे गुणों से भरपूर और आध्यात्मिक आत्माओ की दुनिया में रहती है। इस दुनिया को हम शांतिधाम या मुक्तिधाम कहते हैं, जो पांच तत्वों की इस भौतिक दुनिया से परे है। और आध्यात्मिक रूप से शक्तिशाली आत्मा जब पहली बार अपनी भूमिका निभाने के लिए पृथ्वी ग्रह पर आती है, तो इसकी पवित्रता स्वाभाविक रूप से इसके द्वारा लिए गए भौतिक शरीर में “दिव्य गुणों और उसके कार्यों” में देखी जाती है।

लेकिन जैसे-जैसे वह जन्म और पुनर्जन्म के चक्र में नीचे आती गई, वह अपने आत्मिक स्वरूप को भूल, भौतिक शरीर के साथ स्वयं की गलत पहचान बनाना शुरू कर देती है और आत्मा के रूप में अपनी शाश्वत पहचान को भूल जाती है। इस यात्रा के दौरान, वह अपनी पांच इंद्रियों और अन्य भौतिक मनुष्यों और वस्तुओं के प्रति आकर्षित होने लगती है। इसी बात को रामायण में; सीता को आकर्षित करने वाले एक सोने के हिरण के प्रतीक के रूप में दर्शाया जाता है और आत्म-चेतना की आंतरिक अवस्था को लक्ष्मण रेखा के रूप में दिखाया गया है जिसे सीता ने पार किया था। इसके परिणामस्वरूप रावण ने उसका अपहरण कर लिया और वह राम से अलग हो गई। रावण द्वारा सीता के अपहरण का अध्याय: बुराई या पांच विकारों अर्थात् काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार द्वारा आत्मा को कैद करने के बारे में है। माना जाता है कि, रावण को दशानन भी कहा जाता था, जिसका अर्थ होता है दस सिर वाला। लेकिन हम सभी जानते हैं कि, ऐसे इंसान का अस्तित्व होना असंभव है। तो, इन दस सिरों के रावण का निश्चित रूप से एक प्रतीकात्मक और गहरा आध्यात्मिक महत्व है, जिसे हम भूल चुके हैं। यह दस सिर आज के पुरुषों की पाँच और महिलाओं की पाँच बुराइयों के प्रतीक हैं।

(कल भी जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाई की अपनी ओरिजिनल स्टेट यानि कि वास्त्विक्ता में लौटने के लिए, हमें आध्यात्मिक शक्तियों और सकारात्मकता के एक हाई सौर्स यानि कि परमात्मा से

Read More »
अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

व्यक्तित्व स्तर पर, अच्छाईयां हमारा ओरिजिनल नेचर है जबकि बनावटी या नकारात्मक व्यक्तित्व विशेषताएँ हम एक्वायर करते हैं। एक व्यक्ति जो जीवन भर अच्छे कर्म

Read More »