Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

दूसरों की आलोचना करने और जज करने से स्वयं को मुक्त रखें

July 8, 2024

दूसरों की आलोचना करने और जज करने से स्वयं को मुक्त रखें

रिश्तों का एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहलू है; अलग-अलग व्यक्तित्व, अलग-अलग बोलचाल, स्वभाव संस्कार वाले लोगों के साथ संपर्क में आना। जहां कुछ शब्द और कार्य नेगेटिव और कुछ पॉजिटिव हो सकते हैं, लेकिन वे हमारी पसंद या फिर एक्सपेक्टेशन के अनुसार नहीं भी हो सकते हैं। अक्सर ऐसी स्थिति में, हम दूसरों के प्रति; बहुत आसानी से आलोचनात्मक और निर्णयात्मक हो जाते हैं। और कभी-कभी हम दूसरों को नापसंद करने लगते हैं और उनके बारे में नकारात्मक सोचने और बात करने लगते हैं। आइए जानें कि, ऐसे कौन-कौन से गुण हैं जिन्हें अपनाकर हम अपने व्यक्तित्व के इस नकारात्मक पहलू को बदल सकते हैं:

 

  1. आध्यात्मिक प्रेम- हम सभी स्पिरिचुअल बीइंग यानि कि आत्माएं हैं, जो एक सर्वोच्च सत्ता, प्रेम का सागर; परमात्मा की संतान हैं। इसलिए हमारे अंदर भी प्रेम करने के वही संस्कार हैं जो हमारे परमपिता परमात्मा के हैं। और जब हम प्रेम के उस ओरिजनल संस्कार वा नेचर को अपने रिश्तों में एप्लाई करके सभी को आध्यात्मिक प्रेम की समान दृष्टि से देखना शुरू करते हैं, तो उनकी कमी कमजोरियाँ हमारी अवेयरनेस को टच नहीं कर पाती हैं और हम उन्हें आसानी से माफ कर पाते हैं।

 

  1. शुभभावनाएँ और शुभकामनाएँ– जब हम लोगों की विशेषताओं और अच्छाइयों को देखते हैं तो हम अपने पॉजीटिव वायब्रेशन; शुभभावनाओं के रूप में रेडिएट करते हैं। और शुभकामनाएं; हमारे सकारात्मक इरादे हैं जो हम दूसरों के लिए रखते हैं और जीवन के हर कदम पर उनके लिए अच्छा चाहते हैं। दोनों ही विशेषताएं; हमें दूसरों को अधिक समझने में, विनम्रता का गुण इमर्ज करने में हेल्प करती हैं और हम नेगेटिविटी से मुक्त हो जाते हैं।

 

  1. कृतज्ञता- हम सभी; अपने परिवार के, फ्रेंड सर्किल के या फिर अपने कार्यस्थल पर कार्य करने वाले लोगों के साथ नियमित रूप से बातचीत में आते हैं और हम ये भी जानते हैं कि उन्होंने कभी न कभी हमारे लिए और दूसरों के लिए कुछ अच्छा या सकारात्मक काम किया है। ऐसे में, उनके उन खूबसूरत काम को याद करना कि वे कैसे हैं और उन्होंने क्या अच्छा किया है, इसके लिए आभारी होना और लगातार उनके प्रति पॉजिटिव दृष्टिकोण रखने में मदद करता है।

 

  1. सहनशीलता- दूसरों के नेगेटिव बिहेवियर से हम बहुत जल्दी परेशान हो जाते हैं इसका एक मुख्य कारण है; सहनशीलता के गुण की कमी होना। परमात्मा द्वारा बताए गए आध्यात्मिक ज्ञान को आत्मसात करने और मेडिटेशन के माध्यम से उनके साथ जुड़ने से सहनशीलता बढ़ती है, क्योंकि वे सहनशीलता और धैर्यता के सागर हैं। साथ ही, वे हमें बड़े दिलवाला बनने में मदद करते हैं, ताकि हम दूसरों के साथ आसानी से तालमेल बिठा सकें और उनके प्रति आलोचनात्मक या जजमेंटल न बनें।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए