Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

EN

दूसरों की परवाह करना माना उनकी चिंता करना (भाग 1)

February 3, 2024

दूसरों की परवाह करना माना उनकी चिंता करना (भाग 1)

यह एक ऐसी गलतफहमी है जिसमें जाने-अनजाने में हम सभी बचपन से ही घिरे रहते हैं कि, दूसरो के लिए चिंतित रहना ही उनकी परवाह करना है। हम सभी के सबसे नजदीकी साथी हमारे मां बाप होते हैं जिनके साथ हम बड़े होते हैं। उनकी यह सोच हमारे जन्म लेने के बाद या यूं कहें कि, जन्म से पहले ही मां के गर्भ से इस सोच की एनर्जी; संकल्पों द्वारा और जन्म लेने के बाद फिजिकली लेवल पर साथ रहने से उनकी सोच, बोल और कर्मों द्वारा, यह एनर्जी रेडिएट होने के साथ-साथ, हममें एब्जॉर्ब भी हो जाती है यानि कि स्वीकार भी कर ली जाती है। जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं, यह झूठी धारणा सूक्ष्म और फिजिकल लेवल पर हमारे करीबियों या मिलने वालों दोस्तों, भाई-बहन, जीवनसाथी द्वारा हम तक लगातार पहुंचती रहती है, और धीरे-धीरे हम इसे स्वीकार करना शुरू कर देते हैं और साथ ही साथ इसे सच मानकर उसके अनुसार अपना जीवन व्यतीत करते हैं और दूसरों तक भी रेडिएट करते हैं। इसीलिए आज के दौर में कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं है जो इस सोच को न मानता हो या कुछ हद तक इसे अपने रूटीन में नहीं लाता हो।

उपरोक्त विश्वास वा मान्यता का एक बहुत ही सामान्य उदाहरण, जिससे हम सभी कभी न कभी गुज़रे हैं, वह है जब हमें अपने ऑफिस से घर वापस आने में कुछ मिनट की देरी हो जाए तो घर पहुंचने पर, हमारे परिवार के सदस्य; माता-पिता, जीवनसाथी या फिर बच्चे हमसे कई सवाल पूछते हैं कि, आप कहां थे और फोन क्यों नहीं किया और साथ ही उन्होंने इस दौरान  जितनी नेगेटिव बातें सोची, उसके बारे में भी बताते हैं, लेकिन क्यों? क्योंकि वे हमारे लिये चिंतित थे। आमतौर पर हम इस बात से आश्चर्यचकित होते हैं कि, वे हमारी चिंता कर रहे हैं, क्योंकि ज्यादातर हम किसी गैर जरूरी कारण से घर देर से नहीं आते हैं, लेकिन वे हमें समझाते हैं कि वे हमारी चिंता कर रहे थे क्योंकि उन्हें हमारी परवाह है। लेकिन चिंता करना परवाह करना नहीं है। क्योंकि चिंता; डर या परेशानी है जबकि देखभाल करना; प्यार या लगाव है, और ये दोनों विपरीत भावनाएं हैं जो कभी भी एक समय में एक साथ एक्सिस्ट नहीं कर सकती।


कल के संदेश में, हम जानेंगे कि, कैसे हम सूक्ष्म एनर्जी लेवल पर; नेगेटिव सिचुएशन में चिंता को प्यार और देखभाल से एक्सचेंज करके मुश्किल समय से बाहर आ सकते हैं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अपने पास्ट से सीखें

अपने पास्ट से सीखें

क्या आपने अपनी पास्ट लाइफ में की गई गलतियों से कुछ सीखने की उम्मीद से कभी झांकने की कोशिश करते हुए आखिर में, स्वयं को

Read More »
एक्सपेक्टेशन न करें

एक्सपेक्टेशन न करें

आप सभी ने अपने जीवन में, कभी न कभी ये अनुभव किया होगा कि, आप अपने साथ काम करने वाले कलीग को उसके प्रोजेक्ट पूरा

Read More »