Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

ज्ञान का मंथन करके, उसके फायदे अनुभव करें (भाग 1)

May 25, 2024

ज्ञान का मंथन करके, उसके फायदे अनुभव करें (भाग 1)

पॉजिटिविटी के साथ दिन की शुरुआत करने से, पॉजीटिव और पर्पजफुल भरे दिन की नींव तैयार होती है। इसे हम एक माली के कार्य द्वारा समझ सकते हैं; जो अपने पौधों की बहुत देखभाल करता था। उसने दिन की शुरुआत होते ही उन्हें पानी दिया और यह सुनिश्चित किया कि, उन्हें सही मात्रा में धूप और सही प्रकार की मिट्टी, खाद से पोषण मिले। माली का पौधों के प्रति प्रेम इस बात से झलकता था कि, कैसे उसके पौधों को उसके आस-पास के सभी लोग प्यार करने लगे थे। कभी-कभी जब लोग उससे इन खूबसूरत पौधों का रहस्य पूछते थे, तो वे इसका श्रेय, अपने पौधों को सुबह-सुबह मिलने वाले धूप और भोजन को देता था जिससे यह सुनिश्चित होता था कि, पूरे दिनभर वे सकारात्मक रूप से बढ़ें।

 

इसी तरह से, हम भी सारे दिन थॉट क्रिएट करते हैं, बात करते हैं और कार्य करते हैं। इन सभी को परफेक्शन के साथ पूरा करने की आवश्यकता होती है ताकि हमारे आस-पास के अन्य लोग भी प्रशंसा से भरे रहें। लेकिन क्या आप जानते हैं कि, यह कहना करने से ज्यादा आसान है, खासकर जब हमारे आसपास बहुत सारे अलग-अलग शख्सियत और अलग-अलग सोच वाले लोग होते हैं जिनकी अपनी अलग प्राथमिकताएं होती हैं। ये सब कभी-कभी हमें परफेक्शन के मार्ग से बहुत दूर ले जाते हैं और हमारे थॉट, बोल और कर्म उतनी क्वॉलिटी के नहीं होते हैं जितने हम चाहते हैं। ऐसे मामलों में, अक्सर हम भूल जाते हैं कि, श्रेष्ठ थॉट, बोल और कार्यों से भरे दिन की फाउंडेशन, सुबह सकारात्मक ढंग से दिन की शुरुआत करके ही  रखी जा सकती है। यहां सकारात्मक से हमारा तात्पर्य पॉजिटिव इनफॉर्मेशन के एक या दो पैराग्राफ पढ़ने से है। यह हमारे थॉट्स को आकार देने का एक ऐसा अभ्यास है जो उन्हें पूरे दिन फिट रखता है, जिसके परिणामस्वरूप हमारे बोल और कार्य प्यूरिटी और पॉजिटिविटी से भरपूर रहते हैं। ब्रह्माकुमारीज़ संस्था में, हम दिन की शुरूआत, आध्यात्मिक ज्ञान और विवेक को आत्मसात करने से करते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि, हमने पूरे दिन अपने थॉट्स, बोल और कार्यों को सुंदर बनाए रखने के महत्व को महसूस किया है। जैसे बगीचे में पौधों पर सुबह-सुबह ध्यान देने की आवश्यकता होती है, वैसे ही हमारे मन के बगीचे को, जिसमें थॉट्स, इमोशन, भावनाओं और स्वभाव संस्कार के फूल शामिल हैं, उन पर भी सुबह-सुबह ध्यान देने की आवश्यकता होती है। यह हमारे बोल, कर्म और संबंधों से युक्त हमारे संपूर्ण व्यक्तिगत लैंडस्केप को पूरे दिन सुंदर बनाए रखता है।

(कल भी जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

आपका मन भी एक बच्चा है

आपका मन भी एक बच्चा है

मन हमारे बच्चे जैसा है। इसलिए जब हम अपनी जिम्मेदारियां निभाते हैं, तो भी हमारी प्रायोरिटी इस बच्चे की भलाई होनी चाहिए। हमें इसका सही

Read More »