Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

हर कदम पर नयापन (भाग 2)

November 7, 2023

हर कदम पर नयापन (भाग 2)

हमारे जीवन में नयेपन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहलू; जीवन में आने वाली परिस्थितियों के प्रति एक अलग दृष्टिकोण रखना है। एक पॉजिटिव दृष्टिकोण जीवन के अनुभवों को और अधिक सुंदर बनाता है। हम यह भी कह सकते हैं कि, पॉजिटिव दृष्टिकोण रखते हुए; एक सकारात्मक सोच वाला व्यक्ति कुछ हद तक नकारात्मक मानसिकता वाले व्यक्ति की तुलना में जीवन को अलग नज़रिए से देखता है। मान लीजिए कि, किसी को अपने ऑफ़िस में चुनौतियो का सामना करना पड़ रहा है और उसे इससे उबरने का कोई समाधान नहीं मिल रहा, लेकिन इसके विपरीत अगर वह अपने जीवन की इस परिस्थिती को एक अलग दृष्टिकोण से देखता है, तो वह आसानी से और कम समय में किसी सॉल्यूशन पर पहुंच जाएगा, बजाय इसके कि, वह उस समस्या को अपने पुराने दृष्टिकोण से ही ठीक करने की कोशिश करे। कभी-कभी भिन्न दृष्टिकोण और नज़रिए के साथ समस्याओं का समाधान जादुई तरीके से निकाला जा सकता है। लेकिन जीवन को नए विचारों और आईडिया से परिपूर्ण बनाने के लिए, किसी व्यक्ति को न केवल दुनियावी जानकारियों से बल्कि आध्यात्मिक स्रोतों के द्वारा भी ज्ञान लेने की जरूरत है, जो हमारे स्वयं के बारे में और परमात्मा के बारे में भी बहुत कुछ बताते हैं। याद रखें, जितना अधिक आप स्वयं को और सर्वोच्च सत्ता यानि कि परमात्मा को जानेंगे, आप उतने ही समझदार बनेंगे और जीवन को एक नए दृष्टिकोण से देखेंगे, जो सफलता की चाभी है।

साथ ही, लोगों की विशेषताओं को देखना, या फिर अलग-अलग परिस्थितियों में उनकी अलग-अलग विशिष्टताएं, जीवन में एक नया और पॉजिटिव रंग लाती हैं। और जब आप ऐसा करेंगे तो, वही लोग आपको पहले से अलग और अच्छे दिखेंगे। मत भूलिए, जिन्हें हम आम तौर पर जानते हैं या हम जिनके बारे में जानते हैं; हर किसी की अपनी अपनी और अलग विशेषताएँ होती हैं। मान लीजिए, किसी व्यक्ति के साथ आपके संबंध अच्छे नहीं हैं और आपको उस व्यक्ति से हमेशा नेगेटिव एनर्जी मिलती है। ऐसे में, आप कुछ दिनों तक उस व्यक्ति की विभिन्न विशेषताओं को देखें तो, आप उनके द्वारा आई हुई परिस्थितियों में कभी निराश नहीं होंगे। और यही सोच व्यावहारिक सकारात्मक सोच के साथ नई सोच भी होगी।

(कल भी जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

व्यक्तित्व स्तर पर, अच्छाईयां हमारा ओरिजिनल नेचर है जबकि बनावटी या नकारात्मक व्यक्तित्व विशेषताएँ हम एक्वायर करते हैं। एक व्यक्ति जो जीवन भर अच्छे कर्म

Read More »