Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

कम खाना और सोच समझकर खाना

September 18, 2023

कम खाना और सोच समझकर खाना

हम सभी को इस बात का अटेंशन रखना चाहिए कि, हम क्या खाते हैं, कब खाते हैं और कितना खाते हैं। क्योंकि आजकल अक्सर हम फोन पर बातें करते हुए, फोन स्क्रॉल करते हुए, लैपटॉप पर काम करते हुए या टेलीविजन देखते हुए अपना भोजन करते हैं, भले ही हमें प्रॉपर भूख न भी हो। हमारे शरीर का इंटरनल सिस्टम हमारे खाने की आदतों को निर्देशित करता है, लेकिन भोजन करते हुए ऊपर बताए गए डिस्ट्रेक्शन के कारण अपनी बॉडी द्वारा दिए गए सिग्नल को हम समझ नहीं पाते, उन्हें अनदेखा करते हैं और इवेंचुअली हम बिना सोचे समझे खाने लगते हैं।

तो क्या आप सही प्रकार के भोजन और उसका आनंद लेने के महत्व को जानते हैं? आपके लिए भोजन करने का समय कितना इंपोर्टेंट है? क्या आपका शेड्यूल आपके भोजन को ध्यान से करने की अनुमति देता है? क्या आप के अंदर बार बार खाने, बिना सोचे-समझे खाने या जरूरत से ज्यादा खाने की प्रवृत्ति है? भोजन करने का समय; एक बेहद पवित्र रिचुअल होना चाहिए, लेकिन आज हममें से ज्यादातर लोग बिना सोचे-समझे और डिस्ट्रेक्शन के साथ भोजन करने के आदी हो गए हैं। ऐसा करने से भोजन करते हुए तृप्ति का एहसास, हमारे विचारों या हमारी भावनाओं के बारे में जागरूकता खत्म हो जाती है। और हम जरूरत से ज्यादा खाने लगते हैं, और इस तरह से किया गया भोजन हमें पोषण देने के बजाय नुकसान ही पहुंचाता है। हमारा भोजन किसी एडिक्शन, दबाव, आसक्ति, प्रलोभन या भावनात्मक जरूरतों के कारण नहीं होना चाहिए। तो आइए, हम शुद्ध मन के साथ भोजन करने का अभ्यास करें,  शरीर के द्वारा दिए गए सिग्नल को सुनें कि, कब और कितना खाना है। एक बार जब हम अपनी एक्चुअल भूख और पेट भरने के सिग्नल पर  ध्यान देना शुरू करते हैं, तो अधिक खाने से भी बच जाते हैं, इसलिए अपने भोजन के लिए हेल्थी पैटर्न बनाएं और हर समय उनका पालन करें। स्वयं को याद दिलाते रहें – मैं अपने भोजन के हर निवाले को बड़े प्यार से, परमात्मा की याद में ग्रहण करता हूं। मैं स्वस्थ और संतुलित आहार खाता हूं। मैं ओवरइटिंग नहीं करता हूं।

इन सभी बातों का ध्यान रखते हुए; सही मात्रा में खाने का प्रयास करें, न तो भूखे रहें और न ही भरपेट खाएं। इस प्रकार से जब आप अपने शरीर की सुनते हैं, तो आप इस बात का भी ध्यान रखते हैं कि, उसे कितने भोजन की आवश्यकता है। और क्या आप जानते हैं कि, स्वास्थ्य और खुशहाली सुनिश्चित करने की दिशा में यह एक बहुत बड़ा कदम है। स्वयं को याद दिलाएं – मैं भूख लगने पर ही भोजन करता हूं नाकि अन्य किसी कारणवश। मैं अपने शरीर द्वारा दिए गए सिग्नल सुनता हूं; भूख लगने पर खाता हूं और पेट भर जाने पर खाना बंद कर देता हूं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए