Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

Kya hame bhavuk (emotional) hona chahiye ya nahi (bhag 2)?

September 7, 2023

क्या हमें भावुक (इमोशनल) होना चाहिए या नहीं (भाग 2)?

कल के संदेश को जारी रखते हुए, हम ये समझ सकते हैं कि, देने से भावनात्मक शक्ति आती है जबकि लेने की भावना से भावनात्मक कमजोरी आती है। जब हम जीवन के दृश्यों और परिस्थितियों के साथ-साथ लोगों के मन, वाणी और उनके कार्यों से बहुत कुछ ग्रहण करते हैं, तो कभी-कभी हमें लगता है कि, यह एक सशक्त अनुभव है। लेकिन याद रखें, यदि आप अच्छे को ग्रहण करते हैं, तो आप बुरे को भी ग्रहण करेंगे, क्योंकि यही आपकी मानसिकता है। यह एक वैक्यूम क्लीनर की तरह कार्य करता है, जब आप इससे अपना कालीन साफ ​​करते हैं तो यह डस्ट को सोखने के साथ साथ उसपर पड़ी आपकी अंगूठी को भी सोख लेता है। जबकि सबसे सुंदर बात होती है कि, देने में ही लेना समाया है। इसी प्रकार से, हम जो भी पॉजिटिव इमोशन लोगों को देते हैं, वह हमारे अंदर भी पॉवरफुल हो जाते हैं, क्योंकि यह हमारे अंदर से हर किसी और हमारे आस-पास की हर चीज में वाइब्रेट होते हैं।

इस सिद्धांत के आधार पर, जब हम किसी सकारात्मक दृश्य से कुछ लेन-देन करना चाहते हैं, तो हम भावनात्मक रूप से खुश महसूस करेंगे और नकारात्मक दृश्य से कुछ लेने पर हम भावनात्मक रूप से दुखी महसूस करेंगे। जितना अधिक हमारे इमोशन बाहरी परिस्थितियों या स्टीमुलस पर निर्भर करेंगे, उतना ही अधिक हमारे रिएक्शन उनपर डिपेंड होंगे; फिर चाहे खुशी हो या गम, अत्यधिक भावुक होना डिपेंड होनीकी निशानी है। इसका मतलब यह बिल्कुल भी नहीं है कि, हम निष्ठुर या फिर बोरिंग हैं और जीवन के उन खूबसूरत पलों का आनंद नहीं लेते हैं। साथ ही, हम हर किसी से प्यार करते हैं और जहां हमारे साथ और सहानूभूति की जरूरत होती है हम वहां उनके लिए मौजूद होते हैं। लेकिन अहम बात है कि, जीवन में इन सब बातों को देखते समय हम थोड़े से डिटेच हो जाते हैं। ये ऐसा ही है कि, जब किसी खेल में एक ऑडियंस अपनी पसंदीदा टीम या खिलाड़ी को प्रदर्शन करते हुए देखता है, तो कभी बहुत खुश होता है और कभी दुखी होकर इमोशनल रोलर कोस्टर पर रहता है, लेकिन इसके विपरीत एक स्पिरिचुअल अवेयरनेस वाला ऑडियंस अपनी टीम या खिलाड़ी के प्रदर्शन से अधिक प्रभावित नहीं होता है। बल्कि वह विजय के क्षणों का आनंद लेता है और असफलता के क्षणों को भी भावनात्मक रूप से बिना प्रभावित हुए देखता है। और यह बोरिंग न होकर कहीं अधिक सशक्त बनाने वाला है। और यही अप्रोच जीवन की अन्य परिस्थितियों पर भी लागू होती है।

(कल भी जारी रहेगा…)

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए