Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

लोग जानबूझ हानि नहीं पहुंचाते

February 24, 2024

लोग जानबूझ हानि नहीं पहुंचाते

अधिकतर लोग हमें जानबूझ कर हर्ट नहीं करते हैं। बल्कि उनके ऐसे व्यवहार के पीछे उनका स्वभाव और आदत एक कारण हो सकता है। कभी-कभी लोग धोखा देते हैं, झूठ बोलते हैं, हमें रिजेक्ट और इग्नोर भी करते हैं, जिसकी वजह से हम दर्द महसूस करते हैं और हमारे अंदर उनके प्रति कड़वाहट भी आ जाती है। परन्तु हमें ये समझने की जरूरत है कि, वे ऐसा जानबूझ कर नहीं कर रहे, बल्कि वे खुद दर्द में हैं और उनके अन्दर जो भी केओस है वही बाहर उनके व्यवहार में रिफ्लेक्ट हो रहा है। आइए कुछ पॉइंट्स पर नजर डालें:

  1. जब भी कोई हमसे ठीक तरह से व्यवहार नहीं करता है, तो इसके पीछे कारण उनके जीवन की परिस्थितियाँ हो सकती हैं, नाकि इसका संबध हमारे साथ है। यहां हमें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि- उनके प्रति हमारे व्यवहार और बोल के साथ-साथ, विचार भी अच्छे हों।
  2. कभी-कभी लोग खुद के इमोशनल हर्ट के चलते, अंदर ही अंदर दर्द और पीड़ा में होते हैं। साथ ही, कभी न कभी अपने जीवन में वे ईर्ष्या, भय, क्रोध जैसी भावनाओं के शिकार होकर इंटरनली बहुत आहत होते हैं।
  3. हमें समझना होगा कि, जो लोग हमें हानि पहुंचाते हैं, वे भी एक प्योर बीइंग हैं बस वो अपने ओरिजिनल; शांति और प्रेम के संस्कार से टेंपरेरी रूप से थोड़ा अलग हो गए हैं। एक बार जब हम उनके इस व्यवहार के पीछे छिपे हुए दर्द को समझ लेते हैं, तो हम उन्हें स्वीकार करने लगते हैं, नाकि वे हमारे लिए एक समस्या होते हैं जिसे हमें सहन करना पड़े।
  4. लोगों को करेक्ट करना माना; उनके प्रति करुणाभाव रखना। प्रतिदिन मेडिटेशन के द्वारा हमें स्वयं के नियंत्रण करने, अनुशासन करने और अधिकार जताने के संस्कार को बदलकर, सामने वाले के लिए एक फेसिलिटेटर, गाइड और काउंसलर बनने का प्रयास करना  चाहिए।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाई की अपनी ओरिजिनल स्टेट यानि कि वास्त्विक्ता में लौटने के लिए, हमें आध्यात्मिक शक्तियों और सकारात्मकता के एक हाई सौर्स यानि कि परमात्मा से

Read More »