Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

लोगों की नेगेटिव एनर्जी से बचें

January 8, 2024

लोगों की नेगेटिव एनर्जी से बचें

अक्सर हम लोगों को, उनके तौर तरीके या उनके रहन सहन को अपने हिसाब से बदलने की कोशिश करते हैं। और ऐसा करने पर हम उनकी एनर्जी फील्ड में फंस जाते हैं। ऐसे में, यदि हम किसी नकारात्मक संस्कार वाले व्यक्ति की एनर्जी फील्ड से जुड़ जाते हैं, तो वो नेगेटिविटी हमारे वाइब्रेशंस का भी हिस्सा बन जाती है और हम वैसा ही अनुभव करने लगते हैं। और चेक करने पर हमें स्वयं के अंदर दर्द, क्रोध या हर्ट की फीलिंग्स महसूस होती है। क्या आप जानते हैं कि, जब हम दूसरों की कमी कमजोरियों के बारे में बात करते हैं, कॉन्फ्लिक्ट्स में फंसते हैं या किसी भी प्रकार का भावनात्मक जुड़ाव रखते हैं, तो हम उनकी एनर्जी को एब्जॉर्ब करते हैं और इसे अपने ओरा का हिस्सा बना लेते हैं? इसलिए हमें यह याद रखना चाहिए कि, हमें प्योर एनर्जी के साथ हाई फ्रीक्वेंसी के वायब्रेशन क्रिएट करने हैं। हम हर दिन कई लोगों के साथ संपर्क में आते हैं जिसे हम अवॉयड नहीं कर सकते, लेकिन उनकी एनर्जी में फंसना हमारे लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है क्योंकि इसका प्रभाव उनसे ज्यादा हम पर पड़ता है। लोगों में कमजोरियां हो सकती हैं और हमारी राय भी उनसे अलग हो सकती है। लेकिन उनके बारे में सोचते रहने से, बोलते रहते से, झगड़ों में पड़ने से हम अपनी एनर्जी वेस्ट कर रहे होते हैं और कमज़ोर बन जाते हैं। ऐसी कमज़ोर स्थितियों में हम उनके नकारात्मक वाइब्रेशंस को एब्जॉर्ब कर लेते हैं और साथ ही यह हमें भावनात्मक उलझन में डाल देता है। इसलिए हमेशा अपने संस्कारों और अपनी एनर्जी पर फोकस करें। स्वयं को याद दिलाएं- मैं खुशस्वरूप आत्मा हूं। मैं लोगों के साथ नहीं उलझता। मेरे आभामंडल में मेरे द्वारा चुने गए शुद्ध विचार और भावनाएं हैं।

 

इसके अलावा, अपनी आंतरिक शांति और शक्ति का अनुभव करना शुरू करें। जैसे ही हम अपने ऑरा को क्लीन रखने पर ध्यान देंगे, तो हमारी यही प्यूरिटी हमारे समान वायब्रेशन को आकर्षित करेगी। इसके लिए स्वयं को याद दिलाएं- मैं शक्तिशाली प्राणी हूं। मैं लोगों से अटैच्ड हुए बिना, उन्हें अनकंडीशनल प्रेम करता हूं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

मित्रता को रिन्यू करें और आध्यात्मिक बाँडिंग को बढ़ाएं

मित्रता को रिन्यू करें और आध्यात्मिक बाँडिंग को बढ़ाएं

आजकल लगातार बढ़ती जिम्मेदारियों के कारण, मित्रता कहीं पीछे छूट जाती है। और  कभी-कभी आपसी मतभेदों के चलते हम आहत महसूस करते हैं और दोस्तों

Read More »