Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

EN

लोगों पर लेबल न लगाएं, बल्कि सम्मान दें

January 22, 2024

लोगों पर लेबल न लगाएं, बल्कि सम्मान दें

जब आप किसी रिश्तेदार, सह-यात्री, पड़ोसी, ग्राहक, दुकानदार या फिर किसी से भी थोड़े समय के लिए मिलते हैं – तो क्या आप उनके बारे में कोई निष्कर्ष निकालते हैं? क्या आप उन्हें शांतचित्त, अहंकारी, इतना भी विशेष नहीं, बहुत पतला, बेईमान, बुद्धिमान इत्यादि के रूप में लेबल करते हैं? आजकल समाज हर किसी पर, विशेषकर नेगेटिव प्रवृत्ति वाले व्यक्तिओं पर, बहुत जल्दी लेबल लगाता है, जिसमें सबसे परेशानी की बात है कि, वे लोग समाज द्वारा मिले हुए, उन नेगेटिव लेबलों के अनुसार जीना शुरू कर देते हैं। क्योंकि लेबल्स की एनर्जी; रेडिएट होकर उन लोगों के विशेष व्यवहार या आदत को और अधिक ट्रिगर कर देती है। इसका मतलब यह है कि अगर हम बार-बार किसी पर बेईमान का लेबल लगाते हैं, तो हम उस व्यक्ति में बेईमानी के संस्कार को बढ़ावा देते हैं। इसलिए, आइए लोगों के प्योर और परफेक्ट रूप को देखकर उन्हें विशेषाधिकार दें, अन्यथा हम उन्हें केवल हमारे द्वारा दिए गए लेबल के चश्मे से ही देखते रहेंगे और दिए गए लेबल को अपने एनर्जी फील्ड में भी आकर्षित करते रहेंगे। यहां हमें यह समझना होगा कि, हर किसी व्यक्ति में विशेष और सराहनीय गुण होते हैं। इसलिए उन पर ध्यान केंद्रित करके, महत्व देकर सकारात्मक लेबल लगाने से उनका अपलिफ्टमेंट होगा और हमारी सोच का स्तर भी ऊंचा उठेगा।

 

यदि हम अपने एक दिन की चेकिंग करें कि हम कितनी बार दूसरे लोगों का मूल्यांकन करते हैं, उन पर कोई लेबल लगाते हैं, उनकी आलोचना करते हैं, तुलना करते हैं या उनके काम पर सवाल उठाते हैं, तो यह संख्या बहुत ज्यादा होगी। हम बहुत ही कैजुअली किसी के बारे में कह देते हैं कि – वह आलसी है, वह घमंडी है, यह जगह बेकार है… कभी-कभी हम यह अनजाने में करते हैं जैसेकि, यह बहुत स्वाभाविक और स्पष्ट है। साथ ही, हम अपने इस व्यवहार को यह कहकर जस्टिफाई भी करते हैं – मैंने तो सच बोला था, वह तो ऐसा ही है। हो सकता है कि यह सच हो, लेकिन इसे इतना बढ़ा-चढ़ाकर और उस व्यक्ति की ख़राब छवि के साथ क्यों दिखाया जाए? इसलिए इन सबके बजाय खुद पर ध्यान दें। आज मीडिया के विभिन्न सोर्सेज द्वारा किसी भी व्यक्ति या वस्तु के बारे में पक्षपातपूर्ण विचार फैलाए जाते हैं, जिससे समाज उन्हें उसी रूप में देखने के लिए प्रभावित होता है। इसलिए यह समझना जरूरी है कि, लोगों के प्रति नेगेटिव जजमेंट और लेबलिंग द्वारा, न केवल हम अपनी करुणा के गुण को स्टेक पर रख देते हैं बल्कि अपनी आंतरिक शक्तियों को भी ख़त्म कर देते हैं। यदि हमें किसी के बारे में बात करने की आवश्यकता महसूस भी होती है, तो हमेशा उनके गुणों और वैल्यूज पर फोकस करें और इसके बारे में बात करें। दूसरों को आंकना छोड़ दें और दूसरों के निर्णयों से प्रभावित होना भी बंद कर दें। क्योंकि यह आपके लिए सुरक्षात्मक और दूसरों के लिए सशक्तिकरण होगा।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अपने पास्ट से सीखें

अपने पास्ट से सीखें

क्या आपने अपनी पास्ट लाइफ में की गई गलतियों से कुछ सीखने की उम्मीद से कभी झांकने की कोशिश करते हुए आखिर में, स्वयं को

Read More »
एक्सपेक्टेशन न करें

एक्सपेक्टेशन न करें

आप सभी ने अपने जीवन में, कभी न कभी ये अनुभव किया होगा कि, आप अपने साथ काम करने वाले कलीग को उसके प्रोजेक्ट पूरा

Read More »