Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

EN

मानसिक दबाव और तनाव पर काबू कैसे पाएं (भाग 3)

December 6, 2023

मानसिक दबाव और तनाव पर काबू कैसे पाएं (भाग 3)

अक्सर अपने जीवन में प्रेशर की स्थिति, जो हम महसूस करते हैं, कभी कभी वो हमारे जीवन की किसी परिस्थिती से संबंधित होती है या फिर कभी-कभी हम एक परिस्थिति का दबाव दूसरी परिस्थिति में फील करते हैं, और ये दोनों ही एक दूसरे से संबंधित नहीं होते हैं। इस तरह से यह सब एक पूरे दिन और दिन-ब-दिन चलता रहता है। और यह सारा दबाव हमारे मन में आने वाले विचारों की संख्या बढ़ाता है, जिसके परिणामस्वरूप हमारी कार्यकुशलता और “परखने और निर्णय लेने की शक्तिकम हो जाती है। और ऐसी मनःस्थिति से निकलने वाले बोल और कार्य अनुचित होते हैं  जिनमें शक्ति, दृढ़ विश्वास और स्पष्टता की कमी होती है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि हम “इमोशनल बैगेज” का प्रेशर न रखें, हमारे प्रेशर इक्वेशन (सीरीज के पहले मैसेज में शेयर किया गया) के अनुसार, हमें उन सभी गलत धारणाओं को बदलने की जरूरत है, जो कि हमारे दबाव का मूल कारण हैं और ऐसा करने पर हम अपने जीवन में आने वाले अनचाहे पलों के फोर्स को सहन करने की क्षमता बढ़ा पाएंगे। अक्सर हम सभी ऐसे थॉट्स क्रिएट करते हैं जो हमारे इस बिलिफ पर निर्धारित होते हैं कि, सफलता और असफलता क्या है, जीत क्या है और हार क्या है। हालाँकि हम ऐसी मान्यताओं को सच मानते हैं, लेकिन हमें यहां यह ध्यान रखने की आवश्यकता है कि – ये सच नहीं है। और ये हमारी “सत्यता के दृष्टिकोण” को प्रभावित करके दबाव की फीलिंग्स पैदा करते हैं जबकि दूसरी ओर, सच्चाई हमारी धारणाओं, मान्यताओं से काफी अलग और गहरी होती है।

ऐसी सभी सिचुएशन में जहां मेडिटेशन हमारी हमारे आंतरिक सहन शक्ति को बढ़ाता है वहीं दूसरी ओर आध्यात्मिक ज्ञान, समझ और बुद्धिमत्ता हमारी मान्यताओं को बदलने में बहुत हेल्प करती है। इसलिए प्रेशर फील करने के समय; स्वयं को एक मिनट के लिए पॉज दें, अपने मन में चलने वाले थॉट्स को एनालाइज करें, अपने पास्ट में जाकर उन धारणाओं को चेक करें जो इस विशेष क्षण में ऐसे विचार क्रिएट करने का मूल कारण हैं। और इन थॉट्स को चेंज करने के लिए फिर समझ और शक्ति की आवश्यकता होती है, जिसे हम आध्यात्मिक ज्ञान द्वारा प्राप्त कर सकते हैं। एक बार अगर हमारी मान्यताएं ठीक हो जाती हैं तो हमारे थॉट्स पैटर्न भी ऑटोमैटिकली बदल जाते हैं। हम सभी के द्वारा आमतौर पर क्रिएट किए गए थॉट्स; शायद मैं समय पर नहीं पहुंच पाऊंगा, या अगर मैं इस कार्य को सफलतापूर्वक पूरा नहीं कर पाता हूं तो मैं अपना अगला प्रमोशन खो दूंगा, यदि मैं इस निवेश स्कीम में मेरा पैसा डूबता है, तो मेरा परिवार मुझे एप्रिशिएट नहीं करेगा आदि। जरूरत है कि ऐसे सभी नेगेटिव थॉट्स को सुरक्षा, निर्भयता, धैर्य, शांति, विश्वास, दृढ़ संकल्प और निश्चिंतता जैसे पॉजिटिव थॉट्स में चेंज किया जाए।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अपने पास्ट से सीखें

अपने पास्ट से सीखें

क्या आपने अपनी पास्ट लाइफ में की गई गलतियों से कुछ सीखने की उम्मीद से कभी झांकने की कोशिश करते हुए आखिर में, स्वयं को

Read More »
एक्सपेक्टेशन न करें

एक्सपेक्टेशन न करें

आप सभी ने अपने जीवन में, कभी न कभी ये अनुभव किया होगा कि, आप अपने साथ काम करने वाले कलीग को उसके प्रोजेक्ट पूरा

Read More »