Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

परमात्मा से जुड़कर क्वॉलिटी रिचार्जिंग करें (भाग 2)

December 29, 2023

परमात्मा से जुड़कर क्वॉलिटी रिचार्जिंग करें (भाग 2)

  1. अपने दिन की शुरुआत परमात्म मिलन के साथ करें – सुबह के समय, जब प्रकृति शांत और शुद्ध होती है और सभी मनुष्यों के मन भी शांत और अपने भौतिक अस्तित्व से अलग होते हैं, उस समय स्वयं के आत्मिक स्वरूप का अनुभव करें और सोल वर्ल्ड में स्वयं को महसूस करें। साइलेंस की इस सुंदर दुनिया में परमात्मा के शुद्ध वायब्रेशन को फील करें, स्वयं में भरें। परमात्मा के ये स्नेही वायब्रेशन आपको उनके 7 गुणों से भर देंगे।

 

  1. परमात्म ज्ञान को अपने दिल में आत्मसात करें – सुबह मेडिटेशन का अभ्यास करने के बाद, तरोताजा मन और शरीर के साथ परमात्म ज्ञान को पढ़ें या सुनें और उनके द्वारा कहे गए हर शब्द को अपने दिल में आत्मसात करें और महसूस करें कि, परमात्मा – सुप्रीम टीचर मुझे बेहद प्यार से सिखा रहे हैं। यह आपके दिन के प्रत्येक विचार, शब्द और कार्य को उनके गुणों से भरने के लिए प्रेरित करेगा।

 

  1. प्रत्येक कार्य में आध्यात्मिक वायब्रेशन जोड़ें – परमात्मा के गुणों को महसूस करने और उन्हें अपना संस्कार बनाने का एक बहुत ही सुंदर तरीका है कि किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले उन्हें याद करके, उनकी उपस्थिति को महसूस करके हर कर्म में शुद्ध और दिव्य वायब्रेशन जोड़ना। कार्य के दौरान उनका मार्गदर्शन लेना और कार्य समाप्त होने के बाद धन्यवाद देना।

 

  1. हर दिन का एक क्वॉलिटी चार्ट बनाएं और उसका पालन करें – हर सुबह जब आप योग में परमात्मा से मिलते हैं, उनके साथ पूरे दिन का ये क्वॉलिटी चार्ट साझा करें। इस चार्ट द्वारा अपने कार्य का टाईम टेबल और जिन लोगों या फिर घटने वाले इवेंट्स के आधार पर, अपने मन में दोहराएं या कल्पना करें कि, आज हर कार्य में आप कैसे इन परमात्म गुणों को यूज़ करेंगे। 

 

  1. परमात्मा का ज्ञान और गुणों को दूसरों के साथ साझा करें – हर कार्य में परमात्मा के गुणों का अनुभव करने और क्वॉलिटी रिचार्जिंग करने के लिए, जो कुछ भी आप जानते हैं, परमात्मा से सीखते हैं उसे दूसरों के साथ साझा करें और उन्हें परमात्मा के करीब लाएँ। अपने चेहरे और चलन, दिव्यता भरी मुस्कान, हर सुंदर शब्द और कार्य के माध्यम से दूसरों को भी परमात्मा के गुणों का अनुभव कराएं।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

व्यक्तित्व स्तर पर, अच्छाईयां हमारा ओरिजिनल नेचर है जबकि बनावटी या नकारात्मक व्यक्तित्व विशेषताएँ हम एक्वायर करते हैं। एक व्यक्ति जो जीवन भर अच्छे कर्म

Read More »