Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

पॉज देकर सही तरीके से रिस्पॉन्ड करें

February 28, 2024

पॉज देकर सही तरीके से रिस्पॉन्ड करें

कुछ बातें वा वायब्रेशन हम दूसरों को भेजते हैं और कुछ दूसरे हमें भेजते हैं। इसे ऐसे समझ सकते हैं जैसेकि, लोग और परिस्थितियां आउटर फैक्टर वा बाहरी कारक हैं, इसलिए जो भी हमें इनसे मिलता है, वो हमारे कंट्रोल में नहीं है। लेकिन उसके रिस्पॉन्स में, हमारे थॉट्स, बोल और व्यवहार, जो उन तक पहुंचते हैं, वो हमेशा हमारी चॉइस होती है। हमारी आदत बन चुकी है कि, हम हमेशा दूसरों को ही अपनी खुशियों, क्रोध, दर्द और भय के लिए जिम्मेवार मानते हैं। और हम इस बात से भी अवेयर नहीं हैं कि, किसी भी बात या परिस्थिति में रिस्पॉन्स करना, हमारी स्वयं की ही इंटरनल क्रिएशन है। इसलिए आएं, आज खुद से वादा करते हैं कि, कैसी भी बात हो, लोगों का कैसा भी व्यवहार हो; हम शांति और खुशी से रिस्पॉन्ड करेंगे। कोई भी हमारी भावनाओं के लिए जिम्मेवार नहीं होता है और ना ही जैसा हम चाहते हैं, वैसा फील करा सकता है। हम खुद ही अपने विचार, भावनाओं और व्यवहार के लिए जिम्मेवार हैं, नाकि कोई दूसरा। उसने मेरे साथ गलत किया इसलिए मैं उदास हूँ… उसके व्यवहार की वज़ह से मुझे क्रोध आया आदि हमारी शब्दावली का हिस्सा नहीं होना चाहिए।

 

हमारी परिस्थितियां हमारी खुशियों को तय नहीं करतीं, बल्कि उन परिस्थितियों में हमारा चयनित रिस्पॉन्स ही हमारी खुशियों को तय करता है। और इन रिस्पॉन्स को हमारे मन में चल रहे विचार तय करते हैं। इसलिए हमें अपने दिन की शुरुआत; मन में अच्छे-अच्छे विचार क्रिएट करने से करनी चाहिए और ये ऐसे ही है जैसेकि- एक उपजाऊ जमीन में हेल्दी सीड्स बोना। हमारे बाहर का एनवायरनमेंट, हमारे ही विचारों का रिफ्लेक्शन होता है। जब हम अपने मन में अच्छे विचार क्रिएट करते हैं, तो हम अपने जीवन में खुशियां आकर्षित करते हैं। इसके लिए थोड़ा समय स्वयं के साथ बिताएं और एक परफेक्ट दिन के लिए अपने मन को प्रोग्राम करें, अपने रिस्पॉन्स के लिए; एक हेल्दी इमोशनल स्टेबिलिटी की नींव तैयार करें। क्योंकि लोग और परिस्थितियाँ परफेक्ट नहीं होंगी, पर हमारे मन की स्थिति सदा शांति और खुशी से भरपूर होनी चाहिए। साथ ही, हम इस बात का ध्यान रखें कि, हमारे विचार, शब्द और व्यवहार हमेशा पॉजिटिव वायब्रेशन रेडिएट कर, लोगों और परिस्थितियों को प्रभावित करें, जिससे हम अपने जीवन में ज्यादा से ज्यादा शांति और खुशियां आकर्षित कर पाएंगे।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

आपका मन भी एक बच्चा है

आपका मन भी एक बच्चा है

मन हमारे बच्चे जैसा है। इसलिए जब हम अपनी जिम्मेदारियां निभाते हैं, तो भी हमारी प्रायोरिटी इस बच्चे की भलाई होनी चाहिए। हमें इसका सही

Read More »