Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

पॉजिटिव इन्फॉर्मेशन से पॉजिटिव भाग्य बनाएं (भाग 2)

April 2, 2024

पॉजिटिव इन्फॉर्मेशन से पॉजिटिव भाग्य बनाएं (भाग 2)

हम सभी सुख, शांति, प्रेम, समृद्धि, सद्भाव और बेहतर स्वास्थ्य वाले भाग्य की कामना करते हैं। लेकिन अपने भाग्य को बदलने के लिए जरूरी है कि, हम नेचुरल रूप से राइट थॉट्स क्रिएट करें और उसके लिए प्योर इन्फॉर्मेशन ग्रहण करना बहुत आवश्यक है। जो भी जानकारी लें उसकी क्वालिटी को चेक करें। आजकल जो भी इन्फॉर्मेशन हम पढ़ते या सुनते हैं वो आतंक, हिंसा, नफ़रत, उपहास, अशुद्धता और मैनिपुलेशन से भरपूर होती है-जिसका प्रभाव हमारे भाग्य पर पड़ता है। इसलिए जरूरी है कि-अगली बार हम जब भी कोई इन्फॉर्मेशन लें तो ये चेक करें कि, वो आध्यात्मिक और भावनात्मक होने के साथ-साथ भौतिक और सामाजिक रूप से भी हेल्दी हो। और अगर ऐसा नहीं है तो नाही हम उसे पढ़ें और एब्जॉर्ब करें। ये ठीक उसी तरह से है, जिस तरह से जो भोजन हमारे लिए सही नहीं होता है हम उसे लेने से मना कर देते हैं। नेगेटिव इन्फॉर्मेशन पढ़ना और उसे अपने मित्रों के साथ साझा करने से हम नेगेटिव एनर्जी रेडिएट करते हैं जिससे हम एक तरह से विकर्म बना लेते हैं और इस तरह की कलेक्टिव एनर्जी से आज के संसार की रचना होती है। 

 

इसके लिए, आइए अपने दिन की शुरुआत 10 हेल्दी इन्फॉर्मेशन के साथ करें और इस यात्रा में स्पिरिचुअल इन्फॉर्मेशन हमारा मित्र बन सकती है। अपने सुंदर भाग्य की रचना करने के लिए, हमें ज्ञान और गहरे इनसाइट से भरपूर जानकारी; जो किसी भी चुनौतीपूर्ण स्थिति में या जब भी हम परेशान होते हैं, हमारे मन को नर्चर करे, उसे सशक्त बनाए, ग्रहण करनी चाहिए, क्योंकि यह आध्यत्मिकता हमारा मित्र बनकर हमेशा हमारे साथ होती है। एक छोटी सी स्पिरिचुअल इन्फॉर्मेशन के हर एक शब्द को गहराई से पढ़ते हुए यह महसूस करना चाहिए कि, इससे मेरा मन शक्तिशाली हो रहा है। और हम अपने जीवन की हर चुनौती को बड़े ही गरिमापूर्ण तरीक़े से पार सकते हैं।

इस तरह से, अपना पसंदीदा भाग्य बनाने के लिए हम सिर्फ एक थॉट दूर हैं!

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

मित्रता को रिन्यू करें और आध्यात्मिक बाँडिंग को बढ़ाएं

मित्रता को रिन्यू करें और आध्यात्मिक बाँडिंग को बढ़ाएं

आजकल लगातार बढ़ती जिम्मेदारियों के कारण, मित्रता कहीं पीछे छूट जाती है। और  कभी-कभी आपसी मतभेदों के चलते हम आहत महसूस करते हैं और दोस्तों

Read More »