Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

सफलता के 5 खूबसूरत पहलू (भाग 3)

October 13, 2023

सफलता के 5 खूबसूरत पहलू (भाग 3)

  1. जीवन में हर कदम पर सफलता इस बात पर भी निर्भर करती है कि, हम जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में लक्ष्यों को प्राप्त करते समय कितने विनम्र और सच्चे रहे हैं। नम्रता सभी गुणों में सबसे बड़ा गुण है, जबकि क्रोध और अहंकार विनम्रता के सबसे बड़े दुश्मन हैं और हमारे प्रति लोगों का नज़रिया नहीं बदलने देते और अपना भी नहीं बनने देते हैं। घमंडी लोगों को कोई भी पसंद नहीं करता और सभी लोग ऐसे लोगों को सहारा देने के बजाय उनसे दूर ही रहते हैं। वे न केवल लोगों द्वारा अपने लिए दुआएं और सम्मान खो देते हैं बल्कि, स्वयं का आत्म-सम्मान भी कहीं खो जाता है। क्या आप जानते हैं कि, अहंकारी लोग ही अंदर से सबसे ज्यादा दुखी होते हैं और वे हमेशा लोगों पर हावी होने की कोशिश करते हैं, और अभिमानवश वे महसूस करते हैं कि – मैं अच्छा दिखता हूं, मैं बुद्धिमान हूं, मैं अमीर हूं, मैं स्मार्ट हूं, मेरा व्यक्तित्व सुंदर है, मुझे जीवन में सारी उपलब्धियां हासिल हैं, मेरे रिश्ते खूबसूरत हैं…लेकिन विनम्रता के साथ साथ आपकी ईमानदारी और सच्चाई भी आपको सफल बनाती है। कुछ लोग अपने जीवन में बड़े-बड़े मुकाम हासिल करते हैं, लेकिन वहां तक पहुंचने के दौरान उन्होंने कुछ झूठ बोले होते हैं या किसी न किसी तरह की बेईमानी की होती है, जो कि एक झूठी सफलता है।
  2. अंत में, सफलता का मतलब हर कदम पर देना या दातापन का भाव रखना भी है। आपके पास फिजिकल वा नॉन फिजिकल जो कुछ भी अच्छा है – उसे दूसरों को दें जोकि, एक सुंदर गुण है। जिन लोगों में यह गुण होता है वे अच्छे इंसान होने के साथ साथ सही और संपूर्ण रीति से सफल होते हैं। इसलिए, लोगों को हमेशा सम्मान की दृष्टि से देखें, भले ही उनके पास वह न हो, जो आपके पास है। साथ ही लोगों पर हावी होने की बजाय उन्हें प्रभावित करें और सशक्त बनाएं। यहां तक कि, संपत्ति जैसे फिजिकल और ज्ञान जैसे नॉन फिजिकल खजाने को भी लोगों के साथ बांटना चाहिए। तब आप एक सच्चे दाता बनेंगे और जीवन में अपनी उपलब्धियों के नकारात्मक प्रभाव से भी अछूते रहेंगे और उन्हें अपनी प्रोग्रेस के रूप में लेंगे नाकि उनके ऊपर अपनी ओनरशिप (स्वामित्व) रखेंगे, जो सही मायने में सच्ची सफलता है।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 3)

अच्छाई की अपनी ओरिजिनल स्टेट यानि कि वास्त्विक्ता में लौटने के लिए, हमें आध्यात्मिक शक्तियों और सकारात्मकता के एक हाई सौर्स यानि कि परमात्मा से

Read More »
अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

अच्छाईयों की अपनी ओरिजिनल स्टेट में वापस आएँ (भाग 2)

व्यक्तित्व स्तर पर, अच्छाईयां हमारा ओरिजिनल नेचर है जबकि बनावटी या नकारात्मक व्यक्तित्व विशेषताएँ हम एक्वायर करते हैं। एक व्यक्ति जो जीवन भर अच्छे कर्म

Read More »