Brahma Kumaris Logo Hindi Official Website

Eng

सफलता के लिए एक आदर्श व्यक्तित्व का निर्माण करें (भाग 3)

June 27, 2024

सफलता के लिए एक आदर्श व्यक्तित्व का निर्माण करें (भाग 3)

हमारी दैनिक दिनचर्या का एक बहुत महत्त्वपूर्ण पहलू है स्वयं के अंदर की नकारात्मक विशेषताओं को हटाना या दूर करना। साथ ही, हमें ये भी सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि ये हमारे व्यक्तित्व में न झलकें ताकि हमारे रोजमर्रा के कामकाज में किसी भी तरह की रुकावट पैदा न हो। स्वयं में बदलाव की इस प्रक्रिया में कुछ लोग खुद की कमी-कमजोरियों के प्रति बहुत अधिक संवेदनशील होते हैं। वे हमेशा स्वयं को बदलने या अपनी कमजोरियों को पूरी तरह से समाप्त करने के लिए आतुर रहते हैं जबकि कुछ लोग कम संवेदनशील होते हैं और खुद की कमजोरियों को न तो पहचान पाते हैं और न ही उनमें उन्हें बदलने की शक्ति होती है। सेल्फ-ट्रांसफॉरमेशन की दिशा में आध्यात्मिक शक्ति से भी पहले और सबसे महत्वपूर्ण शक्ति है महसूस करना कि मेरे अन्दर एक विशेष कमजोरी मौजूद है। यदि मैं इस बात को महसूस ही नहीं करता हूँ तो मैं उस शक्ति को स्वयं में धारण करने के लिए कार्य ही नहीं करूंगा। साथ ही, एक बार जब हमें ये महसूस हो जाता है तो हमें अपनी बोलचाल और कर्म के स्तर पर सम्भावित थॉट पैटर्न और कोशिशों के बारे में विचार करने की जरूरत है। हमें अपने उन दोष या कमजोरी को दूर करना होगा जो हमें दुख देती हैं और साथ ही दूसरों को भी असंतुष्ट करती हैं।

 

अंत में, सेल्फ ट्रांसफॉरमेशन की प्रक्रिया में सबसे महत्त्वपूर्ण टूल है एक उच्च आध्यात्मिक स्रोत से जुड़कर खुद को बदलने के लिए शक्तियां लेना और फिर उनके द्वारा अपने विचारों को बदलना। साथ ही, ये शक्तियां हमें हमारे विचारों के बीज-हमारे व्यक्तित्व में परिवर्तन लाने में मदद करती है। एक बार जब हमारे व्यक्तित्व में परिवर्तन आने लगता है, तो इससे हमारे विचार भी उसी प्रकार बदलने लगते हैं। विचारों के परिवर्तन से, हमारी भावनाएं, दृष्टिकोण, दृष्टि, वाणी और कार्य एक सकारात्मक दिशा की तरफ बढ़ने लगते हैं। आध्यात्मिक शक्ति के न होने की वजह से स्वयं द्वारा की गई कोशिशें मुश्किल लगती हैं, जबकि हकीकत में वे इतनी मुश्किल नहीं होतीं। इसलिए, स्वपरिवर्तन की दिशा में मेडिटेशन एक नींव का कार्य करता है, फिर चाहे नए गुणों और शक्तियों को स्वयं में धारण करना हो या फिर कमजोरियों को दूर करके एक बेहतर इंसान बनना हो। मेडिटेशन, हमारे मन और विचारों के स्तर पर परमात्मा; आध्यात्मिक शक्तियों के सागर के साथ एक खूबसूरत संबंध या जुड़ाव है।

नज़दीकी राजयोग सेवाकेंद्र का पता पाने के लिए